वैदिक वांग्मय का इतिहास भाग-1 : पं. भगवद्दत्त द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Vaidik Vangmay Ka Itihas Bhag-1 : by Pt. Bhagavaddatt Hindi PDF Book

वैदिक वांग्मय का इतिहास भाग-1 : पं. भगवद्दत्त द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Vaidik Vangmay Ka Itihas Bhag-1 : by Pt. Bhagavaddatt Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name वैदिक वांग्मय का इतिहास भाग-1 / Vaidik Vangmay Ka Itihas Bhag-1
Author
Category,
Language
Pages 320
Quality Good
Size 72 MB
Download Status Available

वैदिक वांग्मय का इतिहास भाग-1 पुस्तक का कुछ अंश : आर्यावर्त के प्राचीन, मध्यकालीन और अनेक आधुनिक बिदवानों का मत है कि भारतीय इतिहास बड़ा प्राचीन है। महाभारत का युद जो दवापर के अन्त अथवा कलियुग के आरम्भ से कोई 37 वर्ष पूर्व हुआ, अभी कल की बात है। आर्यों का इतिहास उस से भी सहस्त्रों लाखों वर्ष पूर्व से आरम्भ होता है………

Vaidik Vangmay Ka Itihas Bhag-1 PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Aryavart ke prachin, madhyakalin aur anek adhunik vidvanon ka mat hai ki bharatiy itihas bada prachin hai. Mahabharat ka yuddh jo dvapar ke ant athava kaliyug ke arambh se koi 37 varsh poorv hua, abhi kal ki bat hai. Aryon ka itihas us se bhi sahastron lakhon varsh poorv se arambh hota hai…………..
Short Passage of Vaidik Vangmay Ka Itihas Bhag-1 Hindi PDF Book : The ancient, medieval and many modern scholars of Aryavarta believe that Indian history is an old one. The war of Mahabharata which took place 37 years ago at the end of Dwapar or the beginning of Kaliyug, is just a matter of tomorrow. The history of Aryans begins with thousands of years ago…………
“एक क्रियान्वित विचार तीन अधूरे विचारों से कहीं बेहतर है।” ‐ जेम्स लाइटर
“One thought driven home is better than three left on base.” ‐ James Liter

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment