यूनानी दार्शनिक डायोजनीज की लालटेन : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Yunani Darshnik Diogenes Ki Lalten : Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameयूनानी दार्शनिक डायोजनीज की लालटेन / Yunani Darshnik Diogenes Ki Lalten
Author
Category, ,
Language
Pages 10
Quality Good
Size 795 KB
Download Status Available

यूनानी दार्शनिक डायोजनीज की लालटेन का संछिप्त विवरण : जब नाटक खत्म होता और लोग थिएटर से बाहर निकल रहे होते, उस समय डायोजनीज थिएटर में प्रवेश करते थे. पीछे की ओर चलते हुए वो जबरदस्ती धक्का देकर, भीड़ में अपने लिए एक रास्ता बनाते थे ! “तुम पागल: हो, डायोजनीज ! यह करना बंद करो ! तुम आखिर क्‍या कर रहे हो ?” लोग उन पर चिल्लाते यहाँ पर जो लोग आते हैं वे नग्न भेड़ों की तरह आते………

Yunani Darshnik Diogenes Ki Lalten PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Jab Natak khatm hota aur log theatre se bahar nikal rahe hote, us samay diogenes theatre mein pravesh karate the. Peechhe ki or chalate hue vo jabaradasti dhakka dekar, bheed mein apane liye ek Rasta banate the ! “Tum pagal: ho, diogenes ! Yah karana band karo ! Tum Aakhir k‍ya kar rahe ho ?” Log un par chillate yahan par jo log aate hain ve namr bhedon ki tarah aate……….
Short Description of Yunani Darshnik Diogenes Ki Lalten PDF Book : When the play was over and people were leaving the theatre, Diogenes used to enter the theatre. While walking backwards, he used to push forcibly, making a way for himself in the crowd! “You’re crazy: Diogenes! Stop doing this! What are you doing?” People shouting at him, those who come here come like meek sheep………
“जो आप करवाना चाहते हैं वह किसी और से उसकी इच्छा से करवाने की कला ही नेतृत्व है।” ड्वाइट आइज़ेन्होवर
“Leadership is the art of getting someone else to do something you want done because he wants to do it.” Dwight Eisenhower

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment