अभिनेत्री की आत्मकथा : अर्जुन जोशी द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Abhinetri ki Aatmakatha : by Arjun Joshi Hindi PDF Book

Book Nameअभिनेत्री की आत्मकथा / Abhinetri ki Aatmakatha
Author
Category, , ,
Language
Pages 122
Quality Good
Size 150 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : फिल्म संसार मे बीस साल। इन बीस सालों मे न जाने कितने परिवर्तन हुए। कई साधारण कलाकार प्रसिद्धि के शिखर पर पहुँचे और कई विलीन हो गए। बनने बदलने का क्रम आज भी जारी है। देश के हजारों लाखों युवकों युवतियों के लिए आज भी फिल्म संसार आशाओं से भरा पूरा संसार है। गत बीस साल डे मैं फिल्‍म संसार मे हूँ। संकड़ों हजारों परिचितों – मित्रों के प्यार भरे अनुभव मेरे जीवन की अनमोल निधि……..

Pustak Ka Vivaran : Film sansaar me bees saal. in bees saalon me na jaane kitane parivartan hue. kayi saadhaaran kalaakaar prasiddhi ke shikhar par pahunche aur kaee vileen ho gae. banane badalane ka kram aaj bhee jaaree hai. desh ke hajaaron laakhon yuvakon yuvatiyon ke lie aaj bhee philm sansaar aashaon se bhara poora sansaar hai. gat bees saal se main film sansaar me hoon. sankadon hajaaron parichiton – mitron ke pyaar bhare anubhav mere jeevan kee anamol nidhi hai………….

Description about eBook : Twenty years in the film world. These changes have not changed in these twenty years. Many ordinary artists reached the summit of fame and many got dissolved. The sequence of change is still going on. Even today, the film world is full of world’s hope for millions of young people of the country for young women. For the last twenty years I am in the world of film. Thousands of acquaintances – Friends’ love experience is the precious fund of my life…………..

“अपने दिल दिमाग के थोड़े से भी हिस्से से आप बुराइयों को निकाल बाहर कीजिए, तुरंत उस रिक्त स्थान को सृजनात्मकता भर देगी।” डी हॉक
“Clean out a corner of your mind and creativity will instantly fill it.” Dee Hock

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment