हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

बादलों के घेरे / Badalon Ke Ghere

बादलों के घेरे : कृष्णा सोबती द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Badalon Ke Ghere : by Krishna Sobti Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name बादलों के घेरे / Badalon Ke Ghere
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 183
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

बादलों के घेरे पुस्तक का कुछ अंश : मैं लेटा रहता हूँ और सुबह हो जाती है। मैं लेटा रहता हूँ शाम हो जाती है। मैं लेटा रहता हूँ रात झुक जाती है। दरवाजे और खिड़कियों पर पड़े परदे मेरी ही तरह दित रात सुबह शाम अकेले मौन भाव से लटकते रहते हैं। कोई इन्हें भरे भरे हाथों से उठाकर कमरे की ओर बढ़ा नहीं पता। कोई इस देहरी पर……..

Badalon Ke Ghere PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Main leta rahata hoon aur subah ho jati hai. Main leta rahata hoon sham ho jati hai. Main leta rahata hoon rat jhuk jati hai. Daravaje aur khidakiyon par pade parade meri hee tarah dit rat subah sham akele maun bhav se latakate rahate hain. koi inhen bhare bhare hathon se uthakar kamare ki or badha nahin pata. Koi is dehari par…..
Short Passage of Badalon Ke Ghere Hindi PDF Book : I lie down and it is morning. I lie down in the evening. I lie down at night. Like the curtains on the doors and windows, like me, they keep hanging on silently in the morning and evening alone. No one raised them with full hands and did not move towards the room. Someone at this door…
“सब कुछ स्पष्ट होने पर ही निर्णय लेने का आग्रह जो पालता है, वह कभी निर्णय नहीं ले पाता।” ‐ हेनरी फ़्रेडरिक आम्येल (१८२१-१८८१), स्विस कवि एवं दार्शनिक
“The man who insists on seeing with perfect clarity before he decides, never decides.” ‐ Henri Frederic Amiel (1821-1881), Swiss poet and philosopher

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment