भगवान बुद्ध की चुनी हुई सूक्तियों का संग्रह : वियोगी हरि द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ – धार्मिक | Bhagwan Buddh Ki Chuni Hui Suktiyon Ka Sangrah : by Viyogi Hari Hindi PDF Book – Religious (Dharmik)

Book Nameभगवान बुद्ध की चुनी हुई सूक्तियों का संग्रह / Bhagwan Buddh Ki Chuni Hui Suktiyon Ka Sangrah
Author
Category, ,
Language
Pages 126
Quality Good
Size 5.5 MB
Download Status Available

भगवान बुद्ध की चुनी हुई सूक्तियों का संग्रह  पुस्तक का विवरण : आचार्य काका कालेलकर ने एक जगह लिंखा है कि “बुद्ध भगवान्‌ की शिक्षा आज के युग
के लिए विशेष रीति से अनुकूल है, विशेष रीति से पोषक है ।” संसार में आज हर चीज का बडी बारीकी से
विश्लेषण हो रहा है | विश्लेषण की कसौटी पर जो चीज खरी नहीं उतरती, उसे अपनाने क्या, छूने तक में
दुनिया अब आनाकानी करने लगी है । मानवता के मूल सें ओत-प्रोत धर्म फिर इस व्यापक छानबीन से, इस
बौद्धिक क्रांति से अछूता.

Bhagwan Buddh Ki Chuni Hui Suktiyon Ka Sangrah PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Aachary Kaka Kalelkar ne ek jagah linkha hai ki “Buddh Bhagvan‌ kee shiksha aaj ke yug ke liye vishesh reeti se anukool hai, Vishesh Reeti se Poshak hai . Sansar mein Aaj har cheej ka badi bareeki se vishleshan ho raha hai . Vishleshan kee kasauti par jo cheej kharee nahin utarati, use Apanane kya, chhoone tak mein duniya ab Aanakani karane lagi hai . Manavata ke mool sen ot-prot dharm phir is vyapak chhanbeen se, is Bauddhik kranti se achhoota……….

Short Description of Bhagwan Buddh Ki Chuni Hui Suktiyon Ka Sangrah Hindi PDF Book  : Acharya Kaka Kalelkar has said in one place that “Buddha’s teachings are uniquely suited to today’s age, especially nutritious”. In the world today everything is being analyzed very closely. What can not stand the test of analysis, adopt it, even the world has begun to ignore it. The original religion of humanity is again untouched by this extensive investigation, this intellectual revolution …….

 

“धन से आज तक किसी को खुशी नहीं मिली और न ही मिलेगी। जितना अधिक व्यक्ति के पास धन होता है, वह उससे कहीं अधिक चाहता है। धन रिक्त स्थान को भरने के बजाय शून्यता को पैदा करता है।” ‐ बेंजामिन फ्रेंकलिन
“Money never made a man happy yet, nor will it. The more a man has, the more he wants. Instead of filling a vacuum, it makes one.” ‐ Benjamin Franklin

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment