दूसरा ताजमहल : नासिरा शर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Dusra Tajmahal : by Nasira Sharma Hindi PDF Book – Story ( Kahani )

Book Nameदूसरा ताजमहल / Dusra Tajmahal
Author
Category, ,
Language
Pages 20
Quality Good
Size 970 KB
Download Status Available

दूसरा ताजमहल पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : हवाई जहाज में बैठी नयना किसी परिंदे की तरह सहमी और निराश थी। जिसको उडान भरते हुए बीच में ही बहेलिये ने झपट लिया था। नियति का यह खेल उसकी समझ में नहीं आया। दिल्ली पहुँच कर वह हवाई जहाज क़ी सीट पर बेहिस सी बैठी रही। भीड छंटने पर एयरहोस्टेस ने उसकी हालत देखी और पास आकर बोली, ” मैम, आपकी मदद कर सकती हूँ? ” ” नहीं मैं ठीक हूँ।” बडी देर तक वह कुर्सी पर बैठी खाली नजरों से मुसाफिरों को बाहर निकलते देखती रही……..

Dusra Tajmahal PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Hawai jahaj mein baithi Nayna kisi parinde ki tarah sahmi aur nirash thi. Jisko udan bharte hue bich mein hi baheliye ne jhapat liya tha. Niyati ka yah khel uski samajh mein nahin aaya. Dilli pahunch kar vah hawai jahaj ki seet par behis si baithi rahi. Bhid chantne par eyarahostes ne uski halat dekhi aur paas aakar boli, maim, aapki madad kar sakti hun? nahin main thik hun. Badi der tak vah kursi par baithi khali najron se musaphiron ko bahar nikalte dekhti rahi………….

Short Description of Dusra Tajmahal Hindi PDF Book : Sitting in the airplane, Nayna was as frightened and frustrated as a stranger. Whilst filling the flight, the bhaley took a stroll in the middle. This game of destiny did not understand her When he reached Delhi, he sat in the airplane seat. On airing the crowd, the airhostess saw his condition and came up and said, “Mm, can you help? ” No, I am fine. ” For a long time, he kept seeing the passengers coming out of empty eyes with empty eyes……………

 

“जब भी आपको हंसने का अवसर मिले, तो हंसे। यह एक सुलभ दवा है।” – लार्ड ब्रायन
“Always laugh when you can. It is cheap medicine.” – Lord Byron

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment