गाँधी जी खण्ड 4 हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Gandhi Ji Part 4 Hindi PDF Book

गाँधी जी खण्ड 4 हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Gandhi Ji Part 4 Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name गाँधी जी खण्ड 4 / Gandhi Ji Part 4
Category, ,
Pages 153
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

गाँधी जी खण्ड 4 का संछिप्त विवरण : जिस महमानव के जीवन काल मे ही उसके चरित्र तथा पावन कार्यों ने सहसत्रों लेखकों तथा कवियों की प्रतिभा प्रस्फुटित कर दी उसके निर्वाण ने यदि सरस्वती की वीणा व्यापक रूपसे झंकृत कर दी तो आश्चर्य नहीं। गांधी जी के निधन से जो पीड़ा लोगों को हुई वह लेखन से वाणी बनकर निकली……….

 

Gandhi Ji Part 4 PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : jis mahamaanav ke jeevan kaal me hee usake charitr tatha paavan kaaryon ne sahasatron lekhakon tatha kaviyon kee pratibha prasphutit kar dee usake nirvaan ne yadi sarasvatee kee veena vyaapak roopase jhankrt kar dee to aashchary nahin. gaandhee jee ke nidhan se jo peeda logon ko huee vah lekhan se vaanee banakar nikale………….
Short Description of Gandhi Ji Part 4 PDF Book : It is not surprising if the Nirvana of Saraswati’s harp has woken up widely if the person’s life and holy works have erupted the genius of literary writers and poets in the lifetime of the person. The pain which happened to people suffering from the demise of Gandhiji came out as a voice from the writing…………..
“आप प्रत्येक ऐसे अनुभव जिसमें आपको वस्तुत डर सामने दिखाई देता है, से बल, साहस तथा विश्वास अर्जित करते हैं। आपको ऐसे कार्य अवश्य करने चाहिए जिनके बारे में आप सोचते हैं कि आप उनको नहीं कर सकते हैं।” एलेनोर रुज़वेल्ट
“You gain strength, courage, and confidence by every experience in which you really stop to look fear in the face. You must do the thing which you think you cannot do.” Eleanor Roosevelt

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment