खुली धूप में नाव पर : रवीन्द्रनाथ त्यागी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Khuli Dhoop Mein Nav Par : by Ravindra Nath Tyagi Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

खुली धूप में नाव पर : रवीन्द्रनाथ त्यागी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Khuli Dhoop Mein Nav Par : by Ravindra Nath Tyagi Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name खुली धूप में नाव पर / Khuli Dhoop Mein Nav Par
Author
Category, ,
Language
Pages 128
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

खुली धूप में नाव पर पुस्तक का कुछ अंश : मेरे मित्र सुन्दरलाल गृप्त एक निहायत सरल हृदय के व्यक्ति हैं और इसी कारण वे अपनी किसी भावना या विचार को अपने तक ही सीमित नहीं रख सकते । जो कुछ उनके मन में आता है, उसका जल्दी ही साधारणीकरण कर दिया जाता है यानी कि उनके से प्रोग्राम उनके सारे दोस्तों को फ़ौरन ही पता लग जाते हैं। जब भी उन्हें नई……

Khuli Dhoop Mein Nav Par PDF Pustak Ka Kuch Ansh : Mere Mitra Sundarlal grpt ek nihayat saral hrday ke vyakti hain aur isee karan ve apani kisi bhavana ya vichar ko apane tak hi seemit nahin rakh sakate . Jo kuchh unake man mein aata hai, usaka jaldi hi sadharanikaran kar diya jata hai yani ki unake Sare program unake sare doston ko fauran hi pata lag jate hain. Jab bhi unhen nayi………
Short Passage of Khuli Dhoop Mein Nav Par PDF Book : My friend Sundarlal Gupta is a man of very simple heart and for this reason he cannot keep any of his feelings or thoughts limited to himself. Whatever comes to their mind, it is soon generalized, that is, all their programs are immediately known to all their friends. Whenever new to them ………
“चिंताएं ले कर बिस्तर पर जाना अपनी पीठ पर गठरी ले कर सोने के समान है।” ‐ थॉमस सी हैलीबर्टन
“To carry care to bed is to sleep with a pack on your back.” ‐ Thomas C. Haliburton

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment