मुंहता नैणासीरी ख्यात : बदरीप्रसाद साकरिया द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Munhata Nainasiri Khyat : by Badari Prasad Sakariya Hindi PDF Book – Granth

मुंहता नैणासीरी ख्यात : बदरीप्रसाद साकरिया द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - ग्रन्थ | Munhata Nainasiri Khyat : by Badari Prasad Sakariya Hindi PDF Book - Granth
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मुंहता नैणासीरी ख्यात / Munhata Nainasiri
Author
Category, ,
Language
Pages 400
Quality Good
Size 6.41 MB
Download Status Available

मुंहता नैणासीरी ख्यात का संछिप्त विवरण : मिरोही और जालोर प्रदेश में अधिक। 2 फलौदी की ओर है। 3 पड़िहारोकि आगरा शाखा वाले राजपूत भाट हो गये जो मारवाड़ में रहते है। “भाट” संस्कृत के ‘भट्ट’ शब्द का अपभ्रंश है। विविध जातियों में लिखना इलका धंधा है। वंशालिया लिखले और सुलाले की वृत्ति अंगीकार करने के बदले के भेट……

Munhata Nainasiri PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Mirohi aur jalor pradesh mein adhik. 2 Phanaudee ki or hai. 3 Padiharoki Agra shakha vale Rajpoot bhat ho gaye jo Marvad mein rahate hai. Bhat sanskrt ke bhatt shabd ka apabhransh hai. Vividh jatiyon mein likhana inaka dhandha hai. Vanshaliya likhane aur sunane ki vrtti Angikar karane ke badale ke bhet…………
Short Description of Munhata Nainasiri PDF Book : More in Mirohi and Jalore territories. 2 is towards Phanodi. 3 Pariharokis were Rajputs belonging to the Agra branch who live in Marwar. “Bhat” is an aberration of the word ‘Bhatt’ in Sanskrit. It is his business to write in various castes. In return for adopting the instinct to write and narrate the lineage …………
“कई सारी कल्पनाएं करना ही एक अच्छी कल्पना कर पाने का सर्वोत्तम तरीका है।” लिनस पौलिंग, रसायनशास्त्री (1901-1994)
“The best way to have a good idea is to have lots of ideas.” Linus Pauling, chemist, (1901-1994)

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment