पक्षपात रहित अनुभवप्रकाश : स्वामी विशुद्धानन्द जी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Pakshpat Rahit Anubhav Prakash : by Swami Vishuddhanand Ji Hindi PDF Book – Granth

पक्षपात रहित अनुभवप्रकाश : स्वामी विशुद्धानन्द जी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - ग्रन्थ | Pakshpat Rahit Anubhav Prakash : by Swami Vishuddhanand Ji Hindi PDF Book - Granth
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पक्षपात रहित अनुभवप्रकाश / Pakshpat Rahit Anubhav Prakash
Author
Category, ,
Language
Pages 594
Quality Good
Size 30.48 MB
Download Status Available

पक्षपात रहित अनुभवप्रकाश का संछिप्त विवरण : परन्तु काल के प्रभाव से धर्म के ओट में नाना प्रकारके पक्षपात ने ऐसा जाल बिछाया है जिसमें फसा हुआ जीव अधिक से अधिक दुखों को ही अनुभव करता है । हाय ! ऐसे दुखों को अनुभव करते हुये भी रोचक और भयानक वचनों के पाश में फँसे हुये आशा और भय से विहल होने पर भी जीव उस दुःख से अलग नहीं हो सकते…

Pakshpat Rahit Anubhav Prakash PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Parantu kal ke Prabhav se dharm ke ot mein Nana Prakarake Pakshapat ne aisa jal Bichhaya hai Jisamen phasa huya jeev adhik se adhik dukhon ko hee anubhav karata hai . Hay ! Aise Dukhon ko Anubhav karate huye bhee rochak aur bhayanak vachanon ke pash mein phanse huye Aasha aur bhay se vihal hone par bhee jeev us duhkh se alag nahin ho sakate………
Short Description of Pakshpat Rahit Anubhav Prakash PDF Book : But due to the influence of time, many kinds of prejudice in the grip of religion have laid such a trap in which the trapped organism experiences more and more sorrows. Oh ! Even after experiencing such sorrows, animals cannot separate from that sorrow even if they are trapped in the loop of interesting and terrible words……..
“साहस और दृढ़ निश्चय जादुई तावीज़ हैं जिनके आगे कठिनाईयां दूर हो जाती हैं और बाधाएं उड़न-छू हो जाती है।” ‐ जॉन क्विंसी एडम्स
“Courage and perseverance have a magical talisman, before which difficulties disappear and obstacles vanish into air.” ‐ John Quincy Adams

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment