पशु की परम्परा : सव्यसाची द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Pashu Ki Parampara : by Savyasachi Hindi PDF Book – Story (Kahani)

पशु की परम्परा : सव्यसाची द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Pashu Ki Parampara : by Savyasachi Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पशु की परम्परा / Pashu Ki Parampara
Author
Category, , ,
Language
Pages 226
Quality Good
Size 6 MB
Download Status Available

पशु की परम्परा का संछिप्त विवरण : मैं स्वयं पूंजीपति हूँ। किन्तु इसका यह अर्थ नहीं कि में सोशलिज्म के सीन्दर्य साक्षात्कार नहीं कर सकता। सोवियत रूस तथा लाल चीन की यात्रा करने के पूर्व भी मैं जानता था कि सोशलिजम के सिवाय संसार की समस्याओं का कोई समाधान ही नहीं। किन्तु उन महान देशों का अपनी इन आँखों से दर्शन……

Pashu Ki Parampara PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Main Svayan Punjipati hoon. Kintu iska yah arth nahin ki main soshalijm ke saundary sakshatkar nahin kar sakata. Soviyat Rusis tatha lal cheen ki yatra karane ke purv bhi main janata tha ki soshalijam ke sivaay sansar ki samasyaon ka koi samadhan hi nahin. Kintu un mahan deshon ka apni in Aankhon se darshan…….
Short Description of Pashu Ki Parampara PDF Book : I am a capitalist myself. But this does not mean that I cannot perceive the beauty of socialism. Even before I visited Soviet Russia and Red China, I knew that there was no solution to the problems of the world except socialism. But the vision of those great countries with these eyes……..
“प्यार एक ऐसा खेल है जिसे दो व्यक्ति खेल सकते हैं और जिसमें दोनों ही जीतते हैं।” ‐ इवा गाबोर
“Love is a game that two can play and both win.” ‐ Eva Gabor

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment