हमारे वन्य पशु (प्रकृति दर्शन माला) : माधव राऊत द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Hamare Vany Pashu (Prakrati Darshan Mala) : by Madhav Raut Hindi PDF Book – Social (Samajik)

हमारे वन्य पशु (प्रकृति दर्शन माला) : माधव राऊत द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Hamare Vany Pashu (Prakrati Darshan Mala) : by Madhav Raut Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name हमारे वन्य पशु (प्रकृति दर्शन माला) / Hamare Vany Pashu (Prakrati Darshan Mala)
Author
Category,
Language
Pages 24
Quality Good
Size 3.4 MB
Download Status Available

हमारे वन्य पशु (प्रकृति दर्शन माला) का संछिप्त विवरण : यद्यपि हमारे देश में बंदर अनाज के खेतों, फल के बगीचों तथा शहरों को बहुत हानि पहुँचाते हैं, फिर भी लोग उनकी हत्या नहीं करते। हर तरह के फल, फल तथा पेड़-पौधों के कोमल अंकुर इनका आहार है; इसके अतिरिक्त कीड़े -मकोड़े, गिरगिट, मेंढक आदि को भी ये खाते हैं। ये सामान्यतया अपना भक्ष्य ज़मीन पर ही खोजते हैं। जब धूप तेज होती है तब ये पानी में…….

Hamare Vany Pashu (Prakrati Darshan Mala) PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Yadyapi Hamare desh mein bandar Anaj ke kheton, phal ke Bagichon tatha shaharon ko bahut hani Pahunchate hain, phir bhi Log unki hatya nahin karte. Har tarah ke phal, phal tatha ped-paudhon ke komal ankur inka Aahar hai; iske atirikt keede -makode, Girgit, Mendhak aadi ko bhi ye khate hain. Ye Samanyataya apna bhakshy zameen par hi khojate hain. Jab dhoop tej hoti hai tab ye Pani mein……..
Short Description of Hamare Vany Pashu (Prakrati Darshan Mala) PDF Book : Although monkeys in our country do a lot of damage to grain fields, fruit orchards and cities, yet people do not kill them. All kinds of fruits, fruits and tender shoots of plants and trees are their food; Apart from this, they also eat insects, chameleons, frogs etc. They usually find their food on the ground. When the sun is strong then it is in the water………
“व्यस्त रहना काफी नहीं है, व्यस्त तो चींटियां भी रहती हैं। सवाल यह है – हम किस लिए व्यस्त हैं?” हेनरी डेविड थोरु
“It is not enough to be busy, so are the ants. The question is: what are we busy about?” Henry David Thoreau

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment