पौराणिक इतिहास सार हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Pauranik Itihaas Saar Hindi PDF Book

पौराणिक इतिहास सार हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Pauranik Itihaas Saar Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पौराणिक इतिहास सार / Pauranik Itihaas Saar
Author
Category, ,
Pages 603
Quality Good
Size 40.7 MB
Download Status Available

पौराणिक इतिहास सार का संछिप्त विवरण : कामना है और उसी अटल पद मे लीन हो इस चाहना को त्याग करो चाहना द्वैत को कहते है एक चाहने वाला दूसरा जिसको चाहा, यह दो हुए तब ब्रह्मा मे केसे लीन होगा? तब ध्रुवने पूछा उसको कैसे चेतकरु उसका भजन कया है मुझ को उपदेश की जिये की जिससे उसको जानू और निश्चय करूँ………

 

Pauranik Itihaas Saar PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Kaamana hai aur usee atal pad me leen ho is chaahana ko tyaag karo chaahana dvait ko kahate hai ek chaahane vaala doosara jisako chaaha, yah do hue tab brahma me kaise leen hoga? tab dhruvane poochha usako kaise chetakaru usaka bhajan kya hai mujh ko upadesh kee jiye kee jisase usako jaanoo aur nishchay karoon………….
Short Description of Pauranik Itihaas Saar PDF Book : Desire is the desire and you are absorbed in the very Atal posting, you want to give up this desire, Dwait says, the one who wants the other, whom you wanted, then how will you get absorbed in Brahma? Then Dhruv asked how to teach him how Chetkru is his hymn, to teach me, so that I know and decide…………..
“लोग इसलिए अकेले होते हैं क्योंकि वह मित्रता का पुल बनाने की बजाय दुश्मनी की दीवारें खड़ी कर लेते हैं।” ‐ जोसेफ फोर्ट न्यूटन
“People are lonely because they build walls instead of bridges” ‐ Joseph fort Newton

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment