दिल्ली का राजनैतिक इतिहास हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Delhi Ka Rajnaitik Itihaas Hindi PDF Book

दिल्ली का राजनैतिक इतिहास हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Delhi Ka Rajnaitik Itihaas Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name दिल्ली का राजनैतिक इतिहास / Delhi Ka Rajnaitik Itihaas
Category, ,
Pages 234
Quality Good
Size 12 MB
Download Status Available

दिल्ली का राजनैतिक इतिहास का संछिप्त विवरण : अगर सही तौर पर देहली का राजनैतिक इतिहास लिखा जाए और उसे एक खास समय तक सीमित न किया जाए तो हिंदुस्तान के पूरे इतिहास पर एक दृष्टि डालनी पड़ेगी। देहली आज ही कोई राजधानी नहीं बनी, बल्कि यदि हिन्दू कहावतों का विश्वास किया जाय तो कौरवों और पांडवों के समय से दिल्‍ली राजधानी………….

 

Delhi Ka Rajnaitik Itihaas PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Agar sahee taur par dehalika raajanaitik itihaas likha jayeaur use ek khaas samay tak seemit na kiya jae to hindustaan ke poore itihaas par ek drshti daalanee padegi dehalee aaj hee koi raajadhani nahin bani, balki yadi hindu kahaavaton ka vishvaas kiya jaay to kauravon aur paandavon ke samay se dilli rajadhani………….
Short Description of Delhi Ka Rajnaitik Itihaas PDF Book : If the correct political history of the village is written and not limited to a specific time, then a whole vision of India will have to be seen. Today, there is no capital in Delhi, but if the Hindu sayings are believed then Delhi capital of the time of the Kauravas and Pandavas…………..
“दूसरों को नियंत्रित करने वाला व्यक्ति शक्तिशाली हो सकता है, लेकिन जिस व्यक्ति ने स्वयं पर विजय प्राप्त कर ली हो, वह उससे कहीं अधिक महान बलशाली होता है।” ताओ ते चिंग
“He who controls others may be powerful, but he who has mastered himself is mightier still.” Tao Te Ching

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment