प्रयोग मणिमाला : बांकेलाल गुप्त द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Prayog Manimala : by Bankelal Gupt Hindi PDF Book – Social (Samajik)

प्रयोग मणिमाला : बांकेलाल गुप्त द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Prayog Manimala : by Bankelal Gupt Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name प्रयोग मणिमाला / Prayog Manimala
Author
Category, , ,
Pages 516
Quality Good
Size 25 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : आप बड़े परिश्रमी और उद्योगी है साथ ही उदार भी है। आपकी उदारता का एक नमूना पाठकों के सामने “स्थानीय अबसादक” की प्रयोग विधि स्पष्ट हृदय से सर्व साथारण के उपकार के लिये प्रकट करना है। यह अविष्कार यदि योरोप में होता तब आपकी बड़ी ख्याति होती साथ ही धन भी प्राप्त होता | यह एक प्रयोग ही हजारों रुपये के मूल्य का है………..

Pustak Ka Vivaran : Aap bade Parishrami aur udyogi hai sath hi udar bhi hai. Aapaki udarata ka ek Namuna pathakon ke samane “Sthaniya abasadak” ki prayog vidhi spasht hraday se sarv sadharan ke upkar ke liye prakat karana hai. Yah avishkar yadi Europ mein hota tab aapaki badi khyati hoti sath hi dhan bhi prapt hota . Yah ek prayog hi hajaron rupaye ke mooly ka hai………

Description about eBook : You are very hard-working and industrialist as well as generous. One example of your generosity is to reveal to the readers the method of use of “local abuser” for the benefit of the common man with a clear heart. If this invention was in Europe, then you would have got great fame as well as wealth. This is an experiment worth thousands of rupees …………

“जीवन जीने के दो ही तरीके हैं। एक तो ऐसे जैसे कि कुछ भी चमत्कारी नहीं है। और दूसरा जैसे कि सब कुछ चमत्कारी है।” अल्बर्ट आइन्सटाइन
“There are only two ways to live your life. One is as though nothing is a miracle. The other is as though everything is a miracle.” Albert Einstein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment