साहित्य – जिज्ञासा : आचार्य ललितप्रसाद सुकुल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Sahitya – Jigyasa : by Acharya Lalit Prasad Sukul Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameसाहित्य - जिज्ञासा / Sahitya - Jigyasa
Author
Category, , ,
Language
Pages 165
Quality Good
Size 7 MB
Download Status Available

साहित्य – जिज्ञासा पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : ‘कला’, कला के लिए का सिद्धांत अति प्राचीन है। किन्तु अति प्राचीन काल से ही समाज की गुथ्थियों में जकड़ा हुआ मनुष्य कला को भी विविध प्रकार की जीवन-समस्याओं को समझाने का माध्यम बनाने का अदि रहा है। हरिश्न्द्र की सारी साहित्य-राशि का पैना पर्यवेक्षण इस ओर भी दोनों सिद्धांतों के मधुर……

Sahitya – Jigyasa PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Kala, kala ke liye ka siddhant ati pracheen hai. Kintu ati pracheen kal se hi samaj ki Gutthiyon mein jakada huya manushy kala ko bhi vividh prakar ki jeevan-samasyaon ko samajhane ka madhyam banane ka Aadi raha hai. Harishchandra ki sari sahity-Rashi ka paina paryavekshan is or bhee donon siddhanton ke madhur samajasy upasthit karane………

Short Description of Sahitya – Jigyasa Hindi PDF Book : The principle of ‘Kala’, for art, is very ancient. But since ancient times, a man who has been stuck in the social circles has been adamant to make art a medium to explain various kinds of life-problems. Sharing supervision of all the literature of Harishchandra, to present the harmonious combination of both the principles on this side ……

 

“असफल व्यक्तियों में से निन्यानवे प्रतिशत वे लोग होते हैं जिनकी आदत बहाने बनाने की होती है।” जॉर्ज वाशिंगटन कार्वर
“Ninety-nine percent of all failures come from people who have the habit of making excuses.” George Washington Carver

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment