16 वें साल पर तुम्हारे नाम माँ की चिट्ठी : ज्योति परिहार द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | 16th Sal Par Tumhare Naam Maa Ki Chitthi : by Jyoti Parihar Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

Book Name16 वें साल पर तुम्हारे नाम माँ की चिट्ठी / 16th Sal Par Tumhare Naam Maa Ki Chitthi
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 12
Quality Good
Size 6 MB
Download Status Available

16 वें साल पर तुम्हारे नाम माँ की चिट्ठी  पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : अपनी दृष्टि का विकास अदभुत है हमारा संसार टेलीविजन – मोबाइल में कम्प्यूटर और
किताबों में इसे ढूंढने समझने की बजाय अपनी नजरें उठाओ दौड़ाओ चारों ओर बाहें फैलाओ गहरी साँस लो
भर लो सुगंध रोम-रोम में जाग्रत करो अपनी चेतना को जरुरी नहीं कि जो लोग करते आ रहे…….

16th Sal Par Tumhare Naam Maa Ki Chitthi PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran :Apni Drishti ka vikas Adbhut hai hamara sansar Telivision – Mobile mein Computer aur kitabon mein ise Dhoondhane Samajhane ki bajay apni Najaren uthayo daudao charon or bahen phailao gahari sans lo bhar lo sugandh Rom-Rom mein jagrat karo apni chetana ko jaruri nahin ki jo log karte aa rahe……..

Short Description of 16th Sal Par Tumhare Naam Maa Ki Chitthi Hindi PDF Book  : The development of your vision is wonderful Our world is on television – in mobile computer and in books, instead of understanding it, raise your eyes, run, spread your arms around, take a deep breath, breathe fragrance, awaken your consciousness, it is not necessary that those who do Coming………

 

“जब आप अपने मित्रों का चयन करते हैं तो चरित्र के स्थान पर व्यक्तित्व को न चुनें।” ‐ डब्ल्यू सोमरसेट मोघम
“When you choose your friends, don’t be short-changed by choosing personality over character.” ‐ W. Somerset Maugham

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment