आदिवासी साहित्य, परंपरा और प्रयोजन : वंदना टेटे द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Aadaivasi Sahitya, Parampara Aur Prayojan : by Vandana Tete Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameआदिवासी साहित्य, परंपरा और प्रयोजन / Aadaivasi Sahitya, Parampara Aur Prayojan
Author
Category, , ,
Language
Pages 97
Quality Good
Size 15.7 MB
Download Status Available
आदिवासी साहित्य, परंपरा और प्रयोजन का संछिप्त विवरण : विमर्श की विशेष संस्कृति भी हमारी नहीं हैं। जिसमे कुछ विशेषज्ञ लोग अपने पुस्तकीय ज्ञान और बहुत हुआ तो भ्रमणकारी अनुभवों के आधार पर अवधारणाओं के नये डिजाइन बनाते हैं या फिर पुराने डिजाइनों में अपने मन मुताबिक फेरबदल करते रहते हैं। आदिवासी ज्ञान परंपरा में विमर्श भी एक उन्मुक्त और सतत चलनेवाली, जीवन से जुड़ी हुई प्रक्रिया……..
Aadaivasi Sahitya, Parampara Aur Prayojan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Vimarsh ki Vishesh Sanskrti bhi hamari nahin hain. Jisame kuchh visheshagy log apne Pustakeey gyan aur bahut huya to bhramanakari anubhavon ke aadhar par avadharanaon ke naye dijain banate hain ya phir purane dijainon mein apane man mutabik pherabadal karate rahate hain. Aadivasi gyan parampara mein vimarsh bhi ek unmukt aur satat chalanevali, jeevan se judi huyi prakriya……..
Short Description of Aadaivasi Sahitya, Parampara Aur Prayojan PDF Book : We also do not have a special culture of discussion. In which some expert people on the basis of their bookish knowledge and traveling experiences make new designs of concepts or keep on modifying old designs according to their mind. In the tribal knowledge tradition, discourse is also an open and ongoing process related to life…….
“प्रेरणा के पीछे सबसे महत्त्वपूर्ण बात लक्ष्य तय करना होता है। आपका हमेशा एक लक्ष्य अवश्य होना चाहिए।” ‐ फ्रैंसी लैरियू स्मिथ
“The most important thing about motivation is goal setting. You should always have a goal.” ‐ Francie Larrieu Smith

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment