आजीवन निरोग कैसे रहें : डॉ. प्रकाश ब्रह्मचारी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – स्वास्थ्य | Aajivan Nirog Kaise Rahen : by Dr. Prakash Brahmachari Hindi PDF Book – Health (Svasthya)

आजीवन निरोग कैसे रहें : डॉ. प्रकाश ब्रह्मचारी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - स्वास्थ्य | Aajivan Nirog Kaise Rahen : by Dr. Prakash Brahmachari Hindi PDF Book - Health (Svasthya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name आजीवन निरोग कैसे रहें / Aajivan Nirog Kaise Rahen
Author
Category, , , ,
Language
Pages 77
Quality Good
Size 76.2 MB
Download Status Available

आजीवन निरोग कैसे रहें का संछिप्त विवरण : इन शाश्वत धर्मों की अथवा मानव धर्मों की उपेक्षा करके और अपने समाज के बनाये लोक व्यवहार के नियमों की अवहेलना करके मानव स्वयं ही एक विषम परिस्थिति पैदा करके कष्टों में फैंस जाता है । अत: आप जो प्राप्त करना चाहते हैं और जैसा बनना चाहते हैं उसी के अनुरूप कर्तव्य कर्म करके आप लक्ष्य की प्राप्ति कर सकेंगे । मात्र कहने, योजना बनाने एवं गाने से काम नहीं बनेगा ………

Aajivan Nirog Kaise Rahen PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : In Shashvat dharmon kee athava manav dharmon kee upeksha karake aur apane samaj ke banaye lok vyavahar ke niyamon kee avahelana karake manav svayan hee ek visham paristhiti paida karake kashton mein phains jata hai . at: aap jo prapt karana chahate hain aur jaisa banana chahate hain usee ke Anuroop kartavy karm karake aap lakshy kee prapti kar sakenge . Matrakahane, Yojana banane evan Gane se kam nahin banega ………
Short Description of Aajivan Nirog Kaise Rahen PDF Book : By neglecting these eternal religions or human religions and disregarding the rules of public behavior created by their society, human beings themselves get into a lot of misery by creating an odd situation. Therefore, by doing duty according to what you want to achieve and as you want to be, you will be able to achieve the goal. Just saying, planning and singing will not help……….
“जब दूसरे व्यक्ति सोए हों, तो उस समय अध्ययन करें; उस समय कार्य करें जब दूसरे व्यक्ति अपने समय को नष्ट करते हैं; उस समय तैयारी करें जब दूसरे खेल रहे हों ; और उस समय सपने देखें जब दूसरे केवल कामना ही कर रहे हों।” – विलियम आर्थर वार्ड
“Study while others are sleeping; work while others are loafing; prepare while others are playing; and dream while others are wishing.” -William Arthur Ward

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment