आचार्य उद्भट और उनके टीकाकारों का संस्कृत काव्यशास्त्र को योगदान : काकोली राय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Acharya Udbhat Aur Unke Tikakaron Ka Sanskrit Kavyashastra Ko Yogdan : by Kakoli Rai Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

आचार्य उद्भट और उनके टीकाकारों का संस्कृत काव्यशास्त्र को योगदान : काकोली राय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Acharya Udbhat Aur Unke Tikakaron Ka Sanskrit Kavyashastra Ko Yogdan : by Kakoli Rai Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name आचार्य उद्भट और उनके टीकाकारों का संस्कृत काव्यशास्त्र को योगदान / Acharya Udbhat Aur Unke Tikakaron Ka Sanskrit Kavyashastra Ko Yogdan
Author
Category, , ,
Language
Pages 212
Quality Good
Size 317 MB
Download Status Available

आचार्य उद्भट और उनके टीकाकारों का संस्कृत काव्यशास्त्र को योगदान का संछिप्त विवरण : बदलते हुए समय के साथ अभिव्यक्ति की शैलियाँ इतनी परिवर्तित हो जाती हैं कि शास्त्र का मर्म समझने के लिए उसका परीक्षा-पूर्वक आकलन अनिवार्य हो जाता है। काल के सुदीर्घ व्यवधान से भाषा, पारिभाषिक शब्दावली और विश्लेषण की पद्धति इतनी बदल जाती है कि प्राचीन ग्रन्थों का वास्तविक मर्म तिरोहित सा होने लगता है। उससे न केवल उन्हें समझना ही कठिन हो………

Acharya Udbhat Aur Unke Tikakaron Ka Sanskrit Kavyashastra Ko Yogdan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Badalate huye samay ke sath Abhivyakti ki Shailiyan itni Parivartit ho jati hain ki shastra ka marm Samajhane ke liye uska Pariksha-poorvak Aaklan Anivary ho jata hai. Kal ke Sudeergh vyavdhan se bhasha, paribhashik shabdavali aur vishleshan ki paddhati itni badal jati hai ki pracheen Granthon ka vastavik marm tirohit sa hone lagata hai. Usase na keval unhen samajhana hi kathin ho………
Short Description of Acharya Udbhat Aur Unke Tikakaron Ka Sanskrit Kavyashastra Ko Yogdan PDF Book : With the changing times, the styles of expression change so much that in order to understand the essence of the scripture, its examination becomes necessary. Due to the long interruption of time, the language, terminology and method of analysis change so much that the real essence of ancient texts seems to be obliterated. Not only is it difficult to understand them………
“आकार का इतना अधिक महत्त्व नहीं होता है। व्हेल मछली का अस्तित्व खतरे में है जबकि चींटी एक सहज जीवन जी रही है।” बिल वाघन
“Size isn’t everything. The whale is endangered, while the ant continues to do just fine.” Bill Vaughan

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment