अद्वैत वेदांत के विभिन्न संप्रदायों में साक्षी का स्वरुप और कार्य- संजय प्रताप सिंह हिंदी पुस्तक मुफ्त डाउनलोड | Advait Vedant Ke Vibhinna Sampradayo Mein Sakshi Ka Swaroop Aur Karya by Sanjay Pratap Singh Hindi Book Free Download

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अद्वैत वेदांत के विभिन्न संप्रदायों में साक्षी का स्वरुप और कार्य / Advait Vedant Ke Vibhinna Sampradayo Mein Sakshi Ka Swaroop Aur Karya
Author
Category, ,
Language
Pages 321
Quality Good
Size 28.5 MB
Download Status Available

अद्वैत वेदांत के विभिन्न संप्रदायों में साक्षी का स्वरुप और कार्य पुस्तक का कुछ अंश : मैं प्रमाणित करता हूँ. कि श्री रंजय प्रताप सिंह इलाहाबाद विश्वविद्यालय, इलाहाबाद के पंजीकृत शोध-छात्र हैं। इन्होंने मेरे निर्देशन में “अद्वैत-वेदान्त के विभिन्‍न सम्प्रदायों में साक्षी का स्वरूप और कार्य” विषय पर शोध-प्रबन्ध प्रस्तुत किया है। यह शोध-कर्ता की नयी मौलिक कृति है। विषय का प्रतिपादन और उसकी अभिव्यक्ति दोनों दृष्टियों से शोध-प्रबन्ध नवीन दृष्टि प्रदान करता है। मैं इस शोध-प्रबन्ध को इलाहाबाद विश्वविद्यालय की डी0फिल0 उपाधि के लिए संस्तुति प्रदान करता हूँ……..

Advait Vedant Ke Vibhinna Sampradayo Mein Sakshi Ka Swaroop Aur Karya PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Main Pramanit karta hoon. Ki Shri Ranjay pratap sinh ilahabad vishvavidyalay, ilahabad ke panjeekrt shodh-chhatra hain. Inhonne mere nirdeshan mein “Advait-vedant ke vibhin‍na Sampradayon mein sakshi ka svaroop aur kary” vishay par shodh-prabandh prastut kiya hai. Yah shodh-karta ki nayi maulik krti hai. Vishay ka pratipadan aur uski abhivyakti donon drshtiyon se shodh-prabandh naveen drshti pradan karata hai. Main is shodh-prabandh ko ilahabad vishvavidyalay ki d.phil upadhi ke liye sanstuti pradan karta hoon……..
Short Passage of Advait Vedant Ke Vibhinna Sampradayo Mein Sakshi Ka Swaroop Aur Karya Hindi PDF Book : I hereby certify. That Shri Ranjay Pratap Singh is a Registered Research Fellow of Allahabad University, Allahabad. He has presented his dissertation under my direction on the topic “The nature and function of witness in different sects of Advaita-Vedanta”. This is the new original work of the researcher. The dissertation provides a new perspective both in terms of presentation of the subject and its expression. I recommend this dissertation for the degree of D.Phil., University of Allahabad……
“हम जैसा सोचते हैं, वैसा ही बन जाते हैं।” – बुद्ध
“What we think, we become.” – Buddha

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment