अग्नि दीक्षा- निकोलई औस्त्रोवास्की सामाजिक उपन्यास मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Agni Diksha- Nikolai Ostrovsky Upanyas Hindi Book Free Download

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अग्नि दीक्षा / Agni Diksha
Author
Category,
Language
Pages 482
Quality Good
Size 13 MB
Download Status Available

अग्नि दीक्षा पुस्तक का कुछ अंश : लड़ाई का उसका जख्म, टाइफ्स बुखार आर भयकर गठिया–तीनों ने मिल कर आँज़ावस्की की तंदुरस्ती को इस बुरी तरह से तोड़ दिया कि उसे कीव का अपना काम छोंडना ही पड़ा। मगर यह दाँत उसके गले के नीचे नहीं उतरती थी कि उसे वाकायदा रोगी करार दिया जाय और देश के राजनीतिक आर रचनात्मक…………

Agni Diksha PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Ladai ka uska jakhm, taiphs bukhar aar bhayakar gathiya–teenon ne mil kar Aanzavas ki ki tandurasti ko is buri tarah se tod diya ki use keev ka apna kam chhondana hi pada. Magar yah dant uske gale ke neeche nahin utarati thi ki use vakayada rogi karar diya jay aur desh ke Rajneetik aar rachanatmak…………
Short Passage of Agni Diksha Hindi PDF Book : His battle wounds, typhus fever and dreadful rheumatism–all three combined to break Anzavsky’s health so badly that he had to give up his work in Kyiv. But this tooth did not come down his throat that he should be declared as a patient and the country’s political and creative…………
“मनुष्य की सबसे शुरुआती आवश्यकताओं में एक है किसी ऐसे की ज़रूरत जो आपके रात को घर न लौटने पर चिंतित हो कि आप कहां हैं।” माग्रेट मीड
“One of the oldest human needs is having someone to wonder where you are when you don’t come home at night.” Margaret Mead

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment