अग्नि-पुराण भाग २ : श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पुराण | Agni Puran Part 2 : by Shriram Sharma Acharya Hindi PDF Book – Puran

अग्नि-पुराण भाग २ : श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - पुराण | Agni Puran Part 2 : by Shriram Sharma Acharya Hindi PDF Book - Puran
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अग्नि-पुराण भाग २ / Agni Puran Part 2
Author
Category, , ,
Language
Pages 486
Quality Good
Size 8.5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : पुष्कर ने कहा- अब मैं यजुवेद के विधान को बताता हूँ जो भुविन और भुविन दोनों के प्रदान वाला है | उसका तुम साधना करो | हे राम, भोकार जिनमे पदिले होता है ऐसी महाव्यहृतियाँ मानी गई है | ये समस्त कल्मपो की नाश करने वाली और सभी कामनामो के प्रदान करने वाली होती है………….

Pustak Ka Vivaran : Pushkar ne kaha- ab main yajuved ke vidhan ko btata hun jo bhuvin aur bhuvin donon ke pradan vala hai. Uska tum sadhana karo. He raam, bhokar jinme padile hota hai aisi mahavyahtiyan mani gai hai. Ye samast kalmpo ki nash karne vali aur sabhi kamnamo ke pradan karne vali hoti hai………

Description about eBook : Pushkar said – Now I tell the law of Yajuvad, which is providing both Bhuvn and Bhuvn. Do her sadhana. Hey Ram, Bhokar, who has a lot to do, such great privileges have been considered. It is the destroyer of all the clampoos and providing all the good deeds………

“जब तक आप न चाहें तब तक आपको कोई भी ईर्ष्यालु, क्रोधी, प्रतिशोधी, या लालची नहीं बना सकता है।” ‐ नेपोलियन हिल
“No one can make you jealous, angry, vengeful, or greedy–unless you let him.” ‐ Napoleon Hill

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment