अगुआ और बनफ्शे का फूल : खलील जिब्रान द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Agua Aur Banphshe Ka Phool : by Khalil Gibran Hindi PDF Book – Social (Samajik)

अगुआ और बनफ्शे का फूल : खलील जिब्रान द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Agua Aur Banphshe Ka Phool : by Khalil Gibran Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अगुआ और बनफ्शे का फूल / Agua Aur Banphshe Ka Phool
Author
Category, , ,
Language
Pages 162
Quality Good
Size 3.8 MB
Download Status Available

अगुआ और बनफ्शे का फूल का संछिप्त विवरण : खलील जिब्रान की महानता का वास्तविक रहस्य उसकी प्रतिभाशाली कवित्व-शक्ति और प्रगतिशील विचारों को एक कलापूर्ण, सुन्दर और हृदयग्राही ढंग से प्रस्तुत करने में है। वह पवित्रता, मानवता, धर्म और सौंदर्य के पुजारी था। उसकी रचनाएँ सीधा हृदय पर प्रभाव डालती हैं, क्योंकि उसकी रचनाएँ स्वयं उनके अपने हृदय की……

Agua Aur Banphshe Ka Phool PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : khalIl Gibran ki mahanata ka Vastavik rahasy usaki pratibhashali kavitv-shakti aur pragatisheel vicharon ko ek kalapurn, sundar aur hrdayagrahi dhang se prastut karane mein hai. Vah pavitrata, manavata, dharm aur saundary ke pujari tha. Usaki rachanayen seedha hrday par prabhav dalati hain, kyonki usaki rachanayen svayan unake apane hrday ki…….
Short Description of Agua Aur Banphshe Ka Phool PDF Book : The ultimate secret of Khalil Jinnan’s greatness lies in presenting his brilliant poetic power and progressive ideas in an artistic, beautiful and heartfelt manner. He was a priest of holiness, humanity, religion and beauty. His creations have a direct impact on the heart, because his creations themselves are of his own heart….
“मुझे तो अतीत के इतिहास से कहीं अच्छे लगते हैं भविष्य के सपने।” ‐ टॉमस जैफ़रसन (१७४३-१८२६), तीसरे अमरीकी राष्ट्रपति
“I like the dreams of the future better than the history of the past.” ‐ Thomas Jefferson (April 13, 1743–July 4, 1826), Third President of America

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment