अज्ञात जीवन : अजित प्रसाद द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – जीवनी | Agyat Jeevan : by Ajit Prasad Hindi PDF Book – Biography (Jeevani)

Book Nameअज्ञात जीवन / Agyat Jeevan
Author
Category, , ,
Language
Pages 312
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

अज्ञात जीवन का संछिप्त विवरण : बाबाजी ने जल्लाद से इशारा कर दिया था, की कोड़े जोर से न लगावे। कोड़े खाने के बाद जब वह अपराधी बाबाजी के सामने पेश किया गया, तो बाबाजी ने कहा-“अगर बनिए का बेटा है, तो फिर मुझे मुंह न दिखाना” | उनका मतलब यह था कि फिर से चोरी न करना कि मेरे सामने आना पड़े। लेकिन लड़के पर इन शब्दों का गहरा प्रभाव पड़ा। वह अपने घर नहीं आया…….

Agyat Jeevan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Babajee ne Jallad se Ishara kar diya tha, kee kode jor se na lagave. Kode khane ke bad jab vah Aparadhi Babajee ke Samane pesh kiya gaya, to Babaji ne kaha-Agar baniye ka beta hai, to phir muhe munh na dikhana. Unaka Matlab yah tha ki phir se chori na karana ki mere Samane Aana pade. Lekin Ladake par in shabdon ka gahara prabhav pada. Vah Apane ghar nahin Aaya………
Short Description of Agyat Jeevan PDF Book : Babaji had indicated to the executioner, that the whip should not be hit hard. When the culprit was presented before Babaji after eating a whip, Babaji said – “If Baniya has a son, then don’t show my mouth”. He meant not to steal again so that I had to come. But these words had a profound effect on the boy. He did not come to his house ……….
“जब आप अपने मित्रों का चयन करते हैं तो चरित्र के स्थान पर व्यक्तित्व को न चुनें।” – पीट मेराविच
“When you choose your friends, don’t be short-changed by choosing personality over character.” – डब्ल्यू सोमरसेट मोघम

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment