अहिल्याबाई होलकर : गोविन्दराम केशवराम जोशी द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Ahilyabai Holkar : by Govindram Keshavram Joshi Free Hindi PDF Book

Book Nameअहिल्याबाई होलकर / Ahilyabai Holkar
Author
Category, , , ,
Language
Pages 179
Quality Good
Size 2.6 MB
Download Status Available

अहिल्याबाई होलकर का संछिप्त विवरण : संसार में जितने प्रसिद्ध स्थान तथा नगर हैं उनकी ख्याति के कुछ न कुछ विशेष कारण अवश्य होते हैं| जहाँ प्राचीन इतिहास हम को पूर्व वैभव का ज्ञान कराता है वहां प्राचीन स्थान अथवा नगर पूर्व शिल्प तथा अभ्युदय को बतलाते हैं| क्या कारण है कि आज सहस्त्रों वर्ष के परिवर्तन होने पर भी राम की अयोध्या…….

Ahilyabai Holkar PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Sansar mein jitane prasiddh sthan tatha nagar hain unki khyati ke kuchh na kuchh vishesh karan avashy hote hain. Jahan pracheen itihas ham ko poorv vaibhav ka gyan karata hai vahan pracheen sthan athava nagar poorv shilp tatha abhyuday ko batalate hain. Kya karan hai ki aaj sahastron varsh ke parivartan hone par bhi Ram ki ayodhya……
Short Description of Ahilyabai Holkar PDF Book : There are some special reasons for the fame of the famous places and cities in the world. Where ancient history gives us the knowledge of former glory, the ancient place or the city pre-craft and Abhyudaya are told. What is the reason that even today there is a change in the life of the thousand years, when the memory of Ram’s Ayodhya……….
“उद्यमी अनिवार्य रूप से कल्पनाशील और कार्यान्वित करने वाला होता है। वह कुछ कल्पना कर सकता है, तो जब वह कल्पना करता है तो यह भी साफ देख पाता है कि उसका कार्यान्वयन कैसे हो सकता है।” रॉबर्ट एल श्वार्ज़
“The entrepreneur is essentially a visualizer and an actualizer. He can visualize something, and when he visualizes it he sees exactly how to make it happen.” Robert L. Schwartz

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment