एतरेयोपनिषद : शंकराचार्य द्वारा मुफ्त हिंदी उपनिषद पीडीएफ पुस्तक | Aitareya Upanishad : by Shankaracharya Free Hindi Upanishads PDF Book

Author
Category, ,
Language
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|
“एक सफल व्यक्ति वह है जो दूसरों द्वारा अपने ऊपर फेंकी गई ईंटों से एक मजबूत नींव बना सके।” ‐ डेविड ब्रिंकले
“A successful man is one who can lay a firm foundation with the bricks others have thrown at him.” ‐ David Brinkley

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

एतरेयोपनिषद : शंकराचार्य द्वारा मुफ्त हिंदी उपनिषद पीडीएफ पुस्तक | Aitareya Upanishad : by Shankaracharya Free Hindi Upanishads PDF Book 

( Download Link Given Below / डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया हैं )
Aitareya-Upanishad-Shankaracharya-एतरेयोपनिषद-शंकराचार्य

पुस्तक का नाम / Name of Book : एतरेयोपनिषद / Aitareya Upanishad

पुस्तक के लेखक / Author of Book : शंकराचार्य/ Shankaracharya

पुस्तक की भाषा / Language of Book : हिंदी / Hindi

पुस्तक का आकर / Size of Ebook : 4.5 MB

कुल पन्ने / Total pages in ebook : 106

पुस्तक डाउनलोड स्थिति / Ebook Downloading Status  : Best 

(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )

पुस्तक का विवरण : ऋग्वेद ऐत्रेयारान्याकान्तार्गत द्वितीय आरण्यक के अध्याय ४, ५ और ६ का नाम ऐतरेयोपनिषद है | यह उपनिषद् ब्रह्मविद्या प्रधान है | भगवान शंकराचार्य ने इसके ऊपर जो भाष्य लिखा है वह बहुत ही महत्वपूर्ण है | इसके उपोद्घात-भाष्य में उन्होंने मोक्ष के हेतु का निर्णय करते हुए कर्म और कर्मसमुच्चित ज्ञान का निराकरण कर केवल ज्ञान को ही उसका एकमात्र साधन बतलाया है | फिर ज्ञान के अधिकारी का निर्णय किया है और बड़े समारोह के साथ कर्मकाण्डी के अधिकार का निराकरण करते हुए सन्यासी को ही उसका अधिकारी ठहराया है| वहाँ वे कहते हैं कि ‘गृहस्थाश्रम’ अपने गृहविशेष के परिग्रह का नाम है और यह कामनाओं के रहते हुए ही हो सकता है तथा ज्ञानी में कामनाओं का सर्वथा अभाव होता है…………..

 अन्य उपनिषद पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए-  “हिंदी उपनिषद् पुस्तक”

Description about eBook : Chapter 4, 5 and 6 of Rigved Aranyaka Aetreyaranyakantargt is called with the name of Aetreyopanisd. It is the principal Upanishads Theosophy. He wrote a commentary on God Shankaracharya is very important. The prelude-handed in the act, he decided to salvation and knowledge Karmsmuchcit fixed, the only knowledge is the only source told. Has decided to re-possess the knowledge and authority to address the large ritualistic ceremony with her has entrusted to the monks. They say there ‘Grihsthasrm his Grihvisesh possession of the same name, and while it may have desires and utter lack of knowledge is the desire………………

To read other Upanishad books click here- “Hindi Upanishad Books”


सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें



इस पुस्तक को दुसरो तक पहुचाएं 

श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें 

One Quotation / एक उद्धरण
“मैं सफलता की कीमत जानता हूं: समर्पण, कड़ी मेहनत, और जो आप होते देखना चाहते है उनमें अनवरत श्रद्धा।”
– फ्रैंक लॉयड राइट


——————————–
“I know the price of success: dedication, hard work, and an unremitting devotion to the things you want to see happen. ”
– Frank Lloyd Wright

1 thought on “एतरेयोपनिषद : शंकराचार्य द्वारा मुफ्त हिंदी उपनिषद पीडीएफ पुस्तक | Aitareya Upanishad : by Shankaracharya Free Hindi Upanishads PDF Book”

  1. श्रीमान जी मैं इस पुस्तक को डोनेलोड नहीं कर पा रहा हु | इसमे लिखा तो हैं के डोनेलोड लिंक नीचे दिया गया हैं लेकिन मुझे तो नीचे कोई लिंक नहीं दिख रहा हैं कृपया कुछ मदत करे |

    Reply

Leave a Comment