अमनस्कयोग : रामलाल श्रीवास्तव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Amanskayog : by Ram Lal Shrivastav Hindi PDF Book – Granth

अमनस्कयोग : रामलाल श्रीवास्तव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - ग्रन्थ | Amanskayog : by Ram Lal Shrivastav Hindi PDF Book - Granth
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अमनस्कयोग / Amanskayog
Author
Category, , , ,
Language
Pages 99
Quality Good
Size 11.4 MB
Download Status Available

अमनस्कयोग का संछिप्त विवरण : चित्त की संचलता पर नियंत्रण प्राप्त कर लेना योग साधना की सिद्धि के पथ में एक महान प्रयोग है। जब तक चित्त चंचल है, तब तक साधक प्राण शक्ति पर स्वामित्व स्थापित नहीं कर सकता और इस तरह चित्त की चंचलता और प्राण की असमर्थता से योग में सफलता मिलना बड़ा कठिन है, चित्त की चंचलता का निरोध ही मन की वृत्तियों के निरोधपूर्वक अमनस्क भाव की उपलब्धि है……..

Amanskayog PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Chitt ki Sanchalata par Niyantran Prapt kar lena yog sadhana kee siddhi ke path mein ek mahan prayog hai. Jab tak chitt chanchal hai, tab tak sadhak pran shakti par svamitv sthapit nahin kar sakata aur is Tarah chitt kee chanchalata aur pran kee Asamarthata se yog mein saphalata milana bada kathin hai, Chitt kee chanchalata ka Nirodh hee man kee vrttiyon ke Nirodhapoorvak Amanask bhav kee Upalabdhi hai…………..
Short Description of Amanskayog PDF Book : Getting control of mindfulness is a great experiment in the path of accomplishment of yoga practice. As long as the mind is fickle, the seeker cannot establish mastery over the life force, and thus it is very difficult to succeed in yoga due to the mindlessness and inability of the soul, the restlessness of the mind’s instincts is the inhibition of the mind’s instincts of unmanly emotion. Achievement is …………..
“व्यक्ति कर्मों से महान बनता है, जन्म से नहीं।” – चाणक्य
“A man is great by deeds, not by birth.” -Chanakya

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment