अमृत वचन : श्री भागवतानंद गुरु द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Amrit Vachan : by Shri Bhagwatanand Guru Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

Book Nameअमृत वचन / Amrit Vachan
Author
Category,
Language
Pages 442
Quality Good
Size 1.8 MB

पुस्तक का विवरण : अनेक भ्रामक संस्थाओं के द्वारा प्रचारित अशाखत्रीय वक्तव्यों के शास्त्रीय प्रमाणों के साथ खण्डन का भी इसमें सम्मेलन किया गया है। इसमें उद्धृत कुछ लेख वीडियो, वेबसाइट, सोशल मीडिया एवं पत्र-पत्रिकाओं में पहले से प्रकाशित हैं तथा बहुत से अप्रकाशित भी हैं। क्या कर्तव्य है एवं क्या अकर्तव्य है, इसका निर्णय…………

अमृत वचन : श्री भागवतानंद गुरु द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Amrit Vachan : by Shri Bhagwatanand Guru Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)

Pustak Ka Vivaran : Anek Bhramak Sansthaon ke dvara Pracharit Ashakhatriy Vaktavyon ke shastriy pramanon ke sath khandan ka bhi isamen Sammelan kiya gaya hai. Isamen Uddhrt kuchh lekh vediyo, vebasait, social Media evan Patra-Patrikaon mein pahale se prakashit hain tatha bahut se Aprakashit bhi hain. Kya Kartavy hai evan kya Akartavy hai, iska Nirnay…………

Description about eBook : It has also been convened to refute the classical evidences of non-verbal statements promoted by many misleading organizations. Some of the articles cited in it are already published in videos, websites, social media and magazines and many more are also unpublished. What is the duty and what is the duty, the decision of this……….

“यदि आप ग़ुस्से के एक क्षण में धैर्य रखते हैं, तो आप दुःख के सौ दिन से बच जाएंगे।” ‐ चीनी कहावत
“If you are patient in one moment of anger, you will escape a hundred days of sorrow.” ‐ Chinese Proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment