अपना अपना भाग्य : जैनेन्द्र कुमार द्वारा मुफ्त हिंदी उपन्यास पीडीएफ पुस्तक | Apna Apna Bhagya : by Jainendra Kumar Free Hindi Novel PDF Book

Book Nameअपना अपना भाग्य / Apna Apna Bhagya
Author
Category,
Language
Pages 9
Quality Good
Size 200 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : बहुत कुछ निरुद्धेश्य घूम चुकने पर हम सड़क के किनारे की एक बेंच पर बैठ गये| नैनीताल की संध्या धीरे-धीरे उतर रही थी| रुई के रेशे-से भाप-से बादल हमारे सिरों को छू-छूकर बेरोक-टोक घूम रहे थे| हल्के प्रकाश और अंधियारी से रंगकर कभी वे नीले दिखते, कभी सफ़ेद और फिर देर में अरुण पड़ जाते…………..

Pustak Ka Vivaran : Bahut kuchh Niruddheshy ghoom chukane par ham sadak ke kinare ki ek bench par baith gaye. Nainital ki sandhya dheere-dheere utar rahi thi ruyi ke reshe-se bhap-se badal hamare siron ko chhoo-chhookar berok-tok ghoom rahe the. halke prakash aur andhiyari se rangkar kabhi ve neele dikhate, kabhi safed aur phir der mein arun pad jate…………..

Description about eBook : After walking around aimlessly, we sat down on a bench by the side of the road. The evening of Nainital was slowly descending. Steamy clouds of cotton wool, touching our heads, were moving freely. Painted with light light and darkness, sometimes they looked blue, sometimes white and then later they would fall……

“जीवन में दो मूलभूत विकल्प होते हैं- या तो परिस्थितियों को जैसी हैं वैसा ही स्वीकार करें, अथवा उन्हें बदलने का उत्तरदायित्व स्वीकार करें।” ‐ डा. डेविस वेटले
“There are two primary choices in life- to accept conditions as they exist, or accept the responsibility for changing them.” ‐ Dr. Denis Waitley

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment