अस्पृश्यता अथवा भारत में बहिष्कृत बस्तियों के प्राणी : डॉ. बी.आर. अम्बेडकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Asparishyata Athva Baharat Mein Bahishkrit Bastiyo Ke Prani : by Dr. B. R. Ambedkar Hindi PDF Book

अस्पृश्यता अथवा भारत में बहिष्कृत बस्तियों के प्राणी : डॉ. बी.आर. अम्बेडकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Asparishyata Athva Baharat Mein Bahishkrit Bastiyo Ke Prani : by Dr. B. R. Ambedkar Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अस्पृश्यता अथवा भारत में बहिष्कृत बस्तियों के प्राणी / Asparishyata Athva Baharat Mein Bahishkrit Bastiyo Ke Prani
Author
Category
Pages 201
Quality Good
Size 31.8 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : समाज में जिसमें कुछ लोग जो चाहें कर सकते हैं और फिर भी वे जो भी कर सकते हैं वह नहीं कर सकते हैं, समाज के अपने गुण होंगे, लेकिन स्वतंत्रता इसमें शामिल नहीं होगी। यदि मनुष्यों के साथ रहने की सुविधा कुछ लोगों तक ही सीमित है, तो सुविधा जिसे आम तौर पर आजादी कहा जाता है, विशेषाधिकार कहना अधिक उचित होगा…….

Pustak Ka Vivaran : Jis samaaj mein kuchh log jo kuchh chaahen vah sab kuchh kar saken aur baaki vah  sab bhee na kar saken jo unhen karana chaahie, us samaaj ke apane gun hote honge, lekin inamen svatantrata shaamil nahin hogi. Agar insaanon ke anuroop jeene kee suvidha kuchh logo tak hi seemit hai, tab jis suvidha ko aamataur par svatantrata kaha jaata hai, use visheshadhikaar kahana adhik uchit hoga………….

Description about eBook : In the society in which some people can do whatever they want and yet they can not do whatever they should, that society will have their own qualities, but freedom will not be included in it. If the facility of living with humans is restricted to some people, then the facility which is usually called independence, it would be more appropriate to say privilege……………

“यदि आप नौसिखिया बनने के लिए तैयार हैं तो आप अपने जीवन में किसी भी समय नई बात सीख सकते हैं। यदि आपने नौसिखिया बनना वास्तविकता में सीख लिया, तो पूरी दुनिया आपके सामने खुल जाती है।” ‐ बारबारा शेर
“You can learn new things at any time in your life if you’re willing to be a beginner. If you actually learn to like being a beginner, the whole world opens up to you.” ‐ Barbara Sher

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment