और अंत में, टूटे हुए सपने में बूढ़ा महावृक्ष की गवाही : प्रफुल्ल कोलख्यान द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Aur Ant Mein Tute Huye Sapne Mein Mahavriksh Ki Gawahi : by Prafull Kolakhyan Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

Book Nameऔर अंत में, टूटे हुए सपने में बूढ़ा महावृक्ष की गवाही / Aur Ant Mein Tute Huye Sapne Mein Mahavriksh Ki Gawahi
Author
Category, , , , , , ,
Language
Pages 5
Quality Good
Size 1.5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : पूर्वजों की खाल उतारकर अपनी नम्नता ढकने की कोशिश में तुम्हारे पुरखों ने जिस सभ्यता की शुरुआत की थी उसके शीर्ष पर पहुँचकर भी दुनिया में सिर्फ तुम ही नंगे हो सारा ज॑गल हँसने लगा हँसने लगा पशु जिसकी खाल से बना हुआ था नगाड़ा हँसने लगा सागर जिसकी संतानों की काया से बना हुआ था शंख…

Pustak Ka Vivaran : Poorvajon ki khal utarkar apni Namnata dhakane ki koshish mein tumhare purakhon ne jis sabhyata ki shuruat ki thi uske sheersh par pahunchakar bhi duniya mein sirph tum hi nange ho sara jangal hansane laga hansane laga pashu jisaki khal se bana huya tha Nagada hansane laga sagar jiski Santanon ki kaya se bana huya tha shankh……..

Description about eBook : In an attempt to cover your humility by taking off the skin of your ancestors, reaching the top of the civilization started by your ancestors, you are the only naked in the world, the whole forest started laughing. The conch shell was made from the body……..

“सफल मनुष्य बनने के प्रयास से बेहतर है गुणी मनुष्य बनने का प्रयास” – एल्बर्ट आइंस्टीन
“Try not to become a man of success, but rather try to become a man of value.” – Albert Einstein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment