बगलामुखी महासाधना और दशमहाविद्या तन्त्रसार : योगीराज यशपाल जी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – तंत्र मंत्र | Bagalamukhi Mahasadhana Aur Dashmahavidhya Tantrasar : by Yogiraj Yashpal Ji Hindi PDF Book – Tantra Mantra

Book Nameबगलामुखी महासाधना और दशमहाविद्या तन्त्रसार / Bagalamukhi Mahasadhana Aur Dashmahavidhya Tantrasar
Author
Category, , ,
Language
Pages 117
Quality Good
Size 72 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मनुष्य ही नहीं मनुष्य के रूप से देह धारण करके जब जब अविनाशी प्रभु जगत में लीला करते हैं तो मनुष्य की भाँति ही उन्हें भी हंसना और रोना पड़ता है, उन्हें भी उजड़ना और बसना पड़ता है, उन्हें भी पाना और खोना पड़ता है, उन्हें भी मित्रों की मित्रता एवं शत्रुओं की शत्रुता का सामना करना पड़ता है। सांसारिक समस्त अनुभूतियां व परिस्थितियां उन्हें भी दिला शिखा कैरआ………

Pustak Ka Vivaran : Manushy hi Nahin Manushy ke Roop se deh dharan karake jab jab Avinashi Prabhu jagat mein leela karate hain to Manushy ki bhanti hi unhen bhi hansana aur Rona padata hai, unhen bhi ujadana aur basana padata hai, unhen bhi Pana aur khona padata hai, unhen bhee mitron kee mitrata evan shatruon ki Shatruta ka samana karana padata hai. Sansarik samast anubhootiyan va paristhitiyan unhen bhi dila shikha kaira ki……….

Description about eBook : Like human beings, when they take their bodies in the imperishable world, they have to laugh and cry like humans, they also have to grow and settle, they also have to gain and lose, they too Friendship of friends and enmity of enemies have to be faced. All the worldly sensations and circumstances also brought him Shikha Kaira ……

“स्वास्थ्य की हानि होने पर न तो प्रेम, न ही सम्मान, न ही धन-दौलत और न ही बल द्वारा हृदय को खुशी मिल सकती है।” जॉन गे
“Nor love, not honour, wealth nor power, can give the heart a cheerful hour when health is lost.” John Gay

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment