बौद्ध दर्शन और मार्क्सवाद : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Bauddh Darshan Aur Marksvad : Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameबौद्ध दर्शन और मार्क्सवाद / Bauddh Darshan Aur Marksvad
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 130
Quality Good
Size 60 MB
Download Status Available

बौद्ध दर्शन और मार्क्सवाद का संछिप्त विवरण : कुछ लोगों में इससे बड़ी खलबली मच गई। उस समय डा० अम्बेडकर ने कहा था आज दिन मार्क्सवाद का युग-धर्म है। यदि आप लोग उसके विषय’ में विचार करने तक से घबराए’गे तो अब से आप लोगों के विचारों में पंचशील अथवा दसशील ग्रहण करने के लिए कुछ वृद्धवुद्धाओं के सिवा कोई नहीं आएगा…..

Bauddh Darshan Aur Marksvad PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Kuchh Logon mein isase badi khalbali mach gayi. Us Samay Dr. Ambedkar ne kaha tha aaj din Marksvad ka yug-dharm hai. Yadi aap log uske vishay mein vichar karne tak se ghabarayege to ab se aap logon ke vicharon mein panchasheel athava dasasheel grahan karane ke liye kuchh Vrddhavuddhaon ke siva koi nahin aayega…..
Short Description of Bauddh Darshan Aur Marksvad PDF Book : This caused great uproar among some people. At that time, Dr. Ambedkar had said that today is the age-religion of Marxism. If you people are afraid to even think about it, then from now on no one will come in your thoughts except some old women to accept Panchsheel or Dassheel…..
“मनुष्य के सद् विवेक की अंतिम कसौटी शायद उन भावी पीढ़ियों के लिए आज कुछ त्याग करने की उसकी इच्छा ही है जिन के धन्यवाद के शब्द उसे कभी सुनाई नहीं देंगे।” गेलॉर्ड नेलसन, अमरीकी राजनीतिज्ञ
“The ultimate test of man’s conscience may be his willingness to sacrifice something today for future generations whose words of thanks will not be heard.” Gaylord Nelson, US Senator

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment