बेर्न्स्टेन भालू और दबंग : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Bernstein Bhaloo Aur Dabang : Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameबेर्न्स्टेन भालू और दबंग / Bernstein Bhaloo Aur Dabang
Author
Category, ,
Language
Pages 17
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

बेर्न्स्टेन भालू और दबंग का संछिप्त विवरण : भाई को विश्वास न हुआ कि बहन इतनी आहत दिखाई दे रही थी. उसके जम्पर और ब्लाउज फट्टे हुए थे. चेहाहा और फर बुरी दशा में थे और गुलाबी बो भी लटक रही थी. “क्या तुम गिर गई थी?” माँ ने पूछा. बहन ने सिर हिला कर नहीं का संकेत किया. “क्या कोई दुर्घटना हो गई थी?” पिता ने पूछा. बहन ने फिर सिर हिला कर इनकार किया……

Bernstein Bhaloo Aur Dabang PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Bhai ko Vishvas na hua ki bahan itni aahat dikhayi de rahi thi. Uske jampar aur blauj phatte huye the. Chehaha aur phar buri dasha mein the aur Gulabi bo bhi latak rahi thi. “Kya tum gir gayi thi ?” Man ne poochha. Bahan ne sir hila kar nahin ka sanket kiya. “Kya koi Durghatana ho gayi thi ?” Pita ne poochha. Bahan ne phir sir hila kar inkar kiya……..
Short Description of Bernstein Bhaloo Aur Dabang PDF Book : The brother could not believe that the sister was looking so hurt. Her jumpers and blouse were torn. The face and fur were in bad shape and the pink bow was also hanging. “Did you fall?” Mother asked. Sister shook her head and indicated no. “Was there an accident?” Father asked. Sister shook her head again and refused……..
“शुरू में वह कीजिए जो आवश्यक है, फिर वह जो संभव है और अचानक आप पाएंगे कि आप तो वह कर रहे हैं जो असंभव की श्रेणी में आता है।” – असीसी के संत फ़्रांसिस (११८२-१२२६), इतालवी साधु
“Start by doing what’s necessary; then do what’s possible; and suddenly you are doing the impossible.” -St. Francis of Assisi (1182-1226), Italian Saint

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment