भगवान है कि नहीं : कर्त्तार सिंह दुग्गल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Bhagwan Hai Ki Nahin : by Karttar Singh Duggal Hindi PDF Book – Story (Kahani)

भगवान है कि नहीं : कर्त्तार सिंह दुग्गल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Bhagwan Hai Ki Nahin : by Karttar Singh Duggal Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name भगवान है कि नहीं / Bhagwan Hai Ki Nahin
Author
Category, , , ,
Language
Pages 206
Quality Good
Size 32 MB
Download Status Available

भगवान है कि नहीं का संछिप्त विवरण : चौधरियों की पोती, सुरेन्द्र बहन की लाख खातिरें होती। पर बाप राजा का हाथ उसके सिर से हट गया था। डाक्टर लड़के की ऐसी बेवक्त मौत पर चौधरी बुझा-बुझा रहता । चौधरियों के घर वर्षों तक सोग मना। सुरेन्द्र बहन के संबंध में मेरी अगली स्मृति उसके विवाह की है। अभी विवाह की कोई खास उसकी आयु भी नहीं हुई थी कि उसका विवाह कर दिया गया। यह सोच कर कि लड़की अपने पिता के अभाव को महसूस न करे। सुरेद्र बहन का……

Bhagwan Hai Ki Nahin PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Chaudhariyon ki poti, Surendra bahan ki lakh khatiren hoti. Par bap Raja ka hath usake sir se hat gaya tha. Doctor ladke ki aise bevakt maut par chaudhari bujha-bujha rahata . Chaudhariyon ke ghar varshon tak sog mana. Surendr bahan ke sambandh mein meri agali smrti usake vivah ki hai. Abhi vivah ki koi khas usaki aayu bhi nahin huyi thee ki usaka vivah kar diya gaya. Yah soch kar ki ladki apane Pita ke abhav ko mahasoos na kare. Surendra bahan ka……..
Short Description of Bhagwan Hai Ki Nahin PDF Book : Surendra’s sister, the granddaughter of the Chaudhary, would have had lakhs of sake. But the father’s hand was removed from his head. Chaudhary would have been extinguished on such an incisive death of a doctor boy. Chaudhary’s house was celebrated for years. In relation to Surendra’s sister, my next memory is of her marriage. He was not even of any special age to marry, that he was married. Thinking that the girl should not feel the absence of her father. Surendra sister’s ……..
“बच्चों को शिक्षित करना तो ज़रूरी है ही, उन्हें अपने आपको शिक्षित करने के लिए छोड़ देना भी उतना ही ज़रूरी है।” ‐ अर्नेस्ट डिमनेट
“Children have to be educated, but they have also to be left to educate themselves.” ‐ Ernest Dimnet

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment