भक्तिकाल वाणी और विचार : डॉ. राजेन्द्र यादव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Bhaktikal Vani Aur Vichar : by Dr. Rajendra Yadav Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameभक्तिकाल वाणी और विचार / Bhaktikal Vani Aur Vichar
Author
Category, , ,
Language
Pages 309
Quality Good
Size 50 MB
Download Status Available

भक्तिकाल वाणी और विचार का संछिप्त विवरण : देखा जाय तो आज समाज में चारों ओर एक नई तरह की सामाजिक जड़ता तथा अराजकता का दौर है। हमारा पूरा समय बाज़ारवाद के चंगुल में है और चारों तरफ भूमण्डलीकरण की आँधी चल रही है। भारत ही नहीं, वरन्‌ पूरी दुनिया आज वैश्वीकरण की आगोश में है। ऐसे समय में हमें भक्तिकालीन की “वाणी और विचार’ ही हमारे मार्ग को आलोकित कर सकते हैं। भक्तिकाल में अनेक कवि और……….

Bhaktikal Vani Aur Vichar PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Dekha jay to aaj Samaj mein charon or ek nayi tarah ki samajik jadata tatha Arajakata ka daur hai. Hamara poora samay bazaravad ke changul mein hai aur charon taraph bhoomandaleekaran ki aandhi chal rahi hai. Bharat hi nahin, varan‌ poori duniya aaj vaishveekaran ki aagosh mein hai. Aise samay mein hamen bhaktikaleen ki “vani aur vichar hi hamare marg ko aalokit kar sakate hain. Bhaktikal mein anek kavi aur…….
Short Description of Bhaktikal Vani Aur Vichar PDF Book : If seen, there is a new type of social inertia and anarchy all around in the society today. Our whole time is in the clutches of marketism and the storm of globalization is blowing all around. Not only India, but the whole world is in the lap of globalization today. At such a time, only the words and thoughts of Bhakti Kalin can illuminate our path. In the Bhakti period many poets and………
“आप किसी व्यक्ति को धोखा देते हैं तो आप अपने आपको भी धोखा देते हैं।” ‐ आइज़ेक बेशेविस सिंगर
“When you betray somebody else, you also betray yourself.” ‐ Isaac Bashevis Singer

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment