भारत और विश्व : सर्वपल्ली राधाकृष्णन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Bharat Aur Vishva : by Sarvepalli Radhakrishnan Hindi PDF Book – Social (Samajik)

भारत और विश्व : सर्वपल्ली राधाकृष्णन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Bharat Aur Vishva : by Sarvepalli Radhakrishnan Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name भारत और विश्व / Bharat Aur Vishva
Author
Category
Language
Pages 332
Quality Good
Size 14.8 MB
Download Status Available

भारत और विश्व पुस्तक का कुछ अंश : बुद्ध ने कहा है कि परीक्षा करके हम उनके उपदेशों को ग्रहण करें। हमें किसी बाह्य आलम्बन पर निर्भर नहीं रहना चाहिए, बल्कि स्वयं अपनी आत्मा को अपना आलम्बन बनाना चाहिए, शाश्वत धर्म की शरण में जाना चाहिए। बुद्ध ने कहा है : ‘मैं तुमसे बिदा होता हूं, अपनी आत्मा को शरण बनाकर………..

Bharat Aur Vishva PDF Pustak Ka Kuch Ansh : Buddh ne kaha hai ki Pariksha karke ham unake upadeshon ko grahan karen. Hamen kisi bahy aalamban par nirbhar nahin rahana chahiye, balki svayan apni aatma ko apana aalamban banana chahiye, shashvat dharm ki sharan mein jana chahiye. Buddh ne kaha hai : Main tumase bida hota hoon, apni Aatma ko sharan banakar………..
Short Passage of Bharat Aur Vishva PDF Book : Buddha has said that after testing we should accept his teachings. We should not depend on any external support, but should make our own soul our support, take refuge in the eternal Dharma. The Buddha has said: ‘I bid farewell to you, taking refuge in my soul……….
“किसी व्यक्ति का व्यक्तित्व उसके विचारों का समूह होता है; जो वह सोचता है, वैसा वह बन जाता है।” ‐ महात्मा गांधी
“A man is but the product of his thoughts; what he thinks, he becomes.” ‐ Mahatma Gandhi

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment