भारत का मुक्ति-संग्राम : अयोध्या सिंह द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Bharat Ka Mukti-sangram : by Ayodhya Singh Hindi PDF Book

भारत का मुक्ति-संग्राम : अयोध्या सिंह द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Bharat Ka Mukti-sangram : by Ayodhya Singh Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name भारत का मुक्ति-संग्राम / Bharat Ka Mukti-sangram
Author
Category, ,
Pages 473
Quality Good
Size 32 MB
Download Status Available

भारत का मुक्ति-संग्राम का संछिप्त विवरण : ये पुर्तगाली पूँजीवादी सिर्फ व्यापार ही नहीं, लूटपाट भी करते थे। उन्हें सब से पहले टक्कर अरब व्यापारियों से लेनी पड़ी। उस समय हिन्दुस्तान का यूरोप के साथ व्यापार इन्हीं अरब व्यापारियों के हाथ में था। मिस्र और गुजरात के सुल्तानों ने मिलकर अरब व्यापारियों की मदद की और पुर्तगाली लुटेरों को हिन्द महासागर से निकाल बाहर करना चाहा……..

Bharat Ka Mukti-sangram PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ye purtagali poonjivadi sirph vyapar hi nahin, lootapat bhi karate the. unhen sab se pahale takkar arab vyapariyon se leni padi. Us samay hindustan ka yoorop ke sath vyapar inhin arab vyapariyon ke hath mein tha. Misr aur gujarat ke sultanon ne milakar arab vyapariyon ki madad ki aur purtagali luteron ko hind mahasagar se nikal bahar karana chaha………….
Short Description of Bharat Ka Mukti-sangram PDF Book : These Portuguese capitalists used to loot not just business. They had to first take collision with Arab traders. At that time, India was in the hands of these Arab traders in trade with Europe. The Sultans of Egypt and Gujarat, together with Arab traders, helped and tried to expel Portuguese robbers out of the Indian Ocean……………
“अच्छा निर्णय अनुभव से प्राप्त होता है लेकिन दुर्भाग्यवश, अनुभव का जन्म अक्सर खराब निर्णयों से होता है।” ‐ रीटा माए ब्राउन
“Good judgment comes from experience and, unfortunately, experience often comes from bad judgment.” ‐ Rita Mae Brown

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment