भारत का संगीत सिद्धान्त : कैलाश चन्द्रदेव बृहस्पति द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – संगीत | Bharat Ka Sangeet Siddhant : by Kailash Chandradev Brahaspati Hindi PDF Book – Music (Sangeet)

Book Nameभारत का संगीत सिद्धान्त / Bharat Ka Sangeet Siddhant
Author
Category, ,
Language
Pages 390
Quality Good
Size 64.3 MB
Download Status Available

भारत का संगीत सिद्धान्त पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : संगीत शास्त्र से थोड़ा बहुत परिचय तो मेरा भी है। गुरू चरणों में बैठकर सीखा भी पर जैसा कि जीवन के साथ लगा रहा, ज्ञान किसी विषय का भी न हो सका। इतना अवश्य है कि उस समय का गुरू का एक वाक्य अकाट्य है-सब रस, सब संगीत हमारे प्रणव में है– ऊँ कार में है। सब राग-रागनियाँ उसमें सब्निहित हैं । बात तो सर्वथा सही है……….

Bharat Ka Sangeet Siddhant PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Sangeet Shastra se thoda bahut Parichay to mera bhee hai. Guroo charanon mein baithakar seekha bhee par jaisa ki jeevan ke sath laga raha, gyan kisi vishay ka bhee na ho saka. Itana Avashy hai ki us samay ka guroo ka ek vaky akaty hai-sab ras, sab Sangeet hamare pranav mein hai– oon kar mein hai. Sab Rag-Raganiyaan usamen sabnihit hain . bat to Sarvatha sahi hai……………..

Short Description of Bharat Ka Sangeet Siddhant Hindi PDF Book : I also have a little introduction to music. The Guru learned while sitting at his feet, but as he continued with life, knowledge could not be of any subject. It is so important that one sentence of the Guru of that time is irrefutable – all the juice, all the music is in our life – it is in a high car. All ragas and raganis are embedded in it. The matter is absolutely correct ………………

 

“प्रेम एक ऐसी स्थिति है जिसमें आपकी स्वयं की खुशी के लिए दूसरे व्यक्ति की खुशी अनिवार्य होती है” ‐ राबर्ट हेन्लेन
“Love is the condition in which the happiness of another person is essential to your own.” ‐ Robert Heinlein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment