भारत के जंगली जीव : श्रीराम शर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Bharat Ke Jangali Jeev : by Shri Ram Sharma Hindi PDF Book – Social (Samajik)

भारत के जंगली जीव : श्रीराम शर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Bharat Ke Jangali Jeev : by Shri Ram Sharma Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name भारत के जंगली जीव / Bharat Ke Jangali Jeev
Author
Category,
Language
Pages 170
Quality Good
Size 4.3 MB
Download Status Available

भारत के जंगली जीव का संछिप्त विवरण : प्रतिदिन वे बंधे समय पर दहाड़ते हैं । जमीन से मुंह लगा कर जब वे दहाड़ते हैं, तब आसपास के जानवर कांप जाते हैं और उनमें भगदड़ मच जाती है । सिंह को तब उन्हें पकड़ने में बड़ी आसानी होती है | सिंह आदमखोर भी हो जाते हैं और फिर वे इतना परेशान करते हैं कि आदमी के काम में बड़ी बाधा पड़ती है…..

Bharat Ke Jangali Jeev PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Pratidin ve bandhe samay par dahadate hain. Jamin se munh laga kar jab ve dahadate hain, tab Aaspas ke janvar kamp jate hain aur unamen bhagdad mach jati hai. Singh ko tab unhen pakadane mein badi Aasani hoti hai. Sinh Aadmkhor bhi ho jate hain aur phir ve itana pareshan karate hain ki Aadmi ke kam mein badi badha padati hai……..
Short Description of Bharat Ke Jangali Jeev PDF Book : Every day they roar at the fixed time. When they roar by touching the ground, then the surrounding animals tremble and there is a stampede in them. The lion then finds it very easy to catch them. Lions also become man-eaters and then they disturb so much that there is a big hindrance in the work of man……….
“टीवी वास्तविकता से परे है। वास्तविक जीवन में लोगों को फुरसत छोड़ कर नौकरी और कारोबार करना होता है।” बिल गेट्स
“Television is not real life. In real life people have to leave the coffee shop and go to jobs.” Bill Gates

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment