भारत में विवेकानन्द : स्वामी विवेकानन्द द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Bharat Mein Vivekanand : by Swami Vivekanand Hindi PDF Book – History (Itihas)

भारत में विवेकानन्द : स्वामी विवेकानन्द द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Bharat Mein Vivekanand : by Swami Vivekanand Hindi PDF Book – History (Itihas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name भारत में विवेकानन्द / Bharat Mein Vivekanand
Author
Category, , , ,
Language
Pages 500
Quality Good
Size 14.3 MB

पुस्तक का विवरण : लगभग दो हजार वर्ष से अधिक हुए हमारे पूर्वज यहाँ दक्षिण भारत से आए ये। वे हिन्दू थे और हमें यह कहते हुए हर्ष होता है कि इस स्थान के उस समय के तामिल राजाओं ने हिन्दुत्व की रक्षा की | परन्तु उन राजाओं के बाद जब पुर्तगीज तथा डच राज्यों की यहाँ स्थापना हुई तब उन्होंने हमारे धर्मानुष्ठानों में हस्तक्षेप प्रारम्भ किया, हमारी धार्मिक विधियों पर प्रतिबन्ध लगा दिए तथा हमारे पवित्र………

Pustak Ka Vivaran : Lagbhag do hazar varsh se adhik huye hamare poorvaj yahan dakshin bharat se aaye ye. ve hindu the aur hamen yah kahate huye harsh hota hai ki is sthan ke us samay ke Tamil Rajaon ne hindutv ki raksha ki. Parantu un Rajaon ke bad jab purtageej tatha datch Rajyon ki yahan sthapana huyi tab unhonne hamare Dharmanushthanon mein hastakshep prarambh kiya, hamari dharmik vidhiyon par pratibandh laga diye tatha hamare pavitra……..

Description about eBook : Our ancestors came here from South India for more than two thousand years. They were Hindus and we are happy to say that the Tamil kings of this place at that time protected Hindutva. But after those kings, when the Portuguese and Dutch kingdoms were established here, they started interfering in our rituals, imposed restrictions on our religious rituals and our holy …….

“हमें ऐसा साफ़ दृष्टिकोण दीजिए जिससे हम जान पाएं कि हमें कहां खड़ा होना है और किस बात के लिये खड़ा होना है – क्योंकि जब तक हम किसी बात के लिये खड़े नहीं होंगे हम किसी भी बात पर गिर जायेंगे।” ‐ पीटर मार्शल
“Give us clear vision that we may know where to stand and what to stand for – because unless we stand for something we shall fall for anything.” ‐ Peter Marshall

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment