भारत में अंग्रेजी की समस्या मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Bharat Mein Angrezi Ki Samasya Hindi Book Download

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name भारत में अंग्रेजी की समस्या / Bharat Mein Angrezi Ki Samasya
Category, ,
Language
Pages 86
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

भारत में अंग्रेजी की समस्या पुस्तक का कुछ अंश : जिस प्रकल्प पर यह पुस्तक आधारित है उसे वित्तीय सहायता ब्रिटिश काउंसिल, नई दिल्ली ने प्रदान की थी। अतः हम ब्रिटिश काउंसिल के प्रति भी अपना आभार व्यक्त करते हैं। हम रुस्तम सिंह के आभारी हैं जिन्होंने इस पुस्तक का ऐसा रूपान्तरण किया है कि आम आदमी इसे पढ़ सकता है। हम एकलव्य के प्रकाशन समूह के अन्य सभी सदस्यों के भी आभारी हैं जिनकी मदद से यह पुस्तक इस शक्ल में आप सबके सामने है……

Bharat Mein Angrezi Ki Samasya PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Jis Prakalp par yah pustak Aadharit hai use vittiy sahayata british kaunsil, nayi Delhi ne pradan ki thi. Atah ham British kaunsil ke prati bhi apna Aabhar vyakt karte hain. Ham Rustam singh ke Aabhari hain jinhonne is pustak ka aisa roopantaran kiya hai ki aam aadami ise padh sakta hai. Ham ekalavy ke prakashan samooh ke any sabhi sadasyon ke bhi Aabhari hain jinaki madad se yah pustak is shakl mein aap sabake samane hai……
Short Passage of Bharat Mein Angrezi Ki Samasya Hindi PDF Book : The project on which this book is based was funded by the British Council, New Delhi. Therefore, we also express our gratitude to the British Council. We are thankful to Rustam Singh who has adapted this book in such a way that the common man can read it. We are also thankful to all the other members of Eklavya’s publication group, with whose help this book is in front of you all in this form……
“बंदरगाह में खड़ा जलयान सुरक्षित होता है। जलयान वहां खड़े रहने के लिए नहीं बने होते हैं।” थामस एक्किनास
“A ship in harbor is safe . . . but that is not what ships are for.” Thomas Aquinas

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment