भारतीय चिति और गांधी चिंतन : डॉ. जयप्रकाश सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Bharatiya Chiti Aur Gandhi Chintan : by Dr. Jay Prakash Singh Hindi PDF Book – History (Itihas)

Book Nameभारतीय चिति और गांधी चिंतन / Bharatiya Chiti Aur Gandhi Chintan
Author
Category, , ,
Language
Pages 52
Quality Good
Size 2.6 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : बीसवीं सदी का मुहावरा था भारत गांवों में बसता हे और गांवों में बसने वाले इस भारत को बखूबी पहचानते थे। यह भारत भी लंगोटी वाले गांधी में अपना प्रतिबिम्ब देखता था और उनके रचनात्मक कार्यक्रम से उसके अंदर बदलाव की उम्मीद जगी थी। उसे विश्वास था कि गांधीजी भारतीयता में रचे-पगे आदमी हैं और देश की एकता……

Pustak Ka Vivaran : Beesaveen sadee ka Muhavara tha bharat Ganvon mein basata hai aur Ganvon mein basane vale is bharat ko bakhoobee pahachanate the. Yah bharat bhee langoti vale Gandhi mein apana pratibimb dekhata tha aur unake Rachanatmak karyakram se usake andar badlav ki ummeed jagi thee. Use vishvas tha ki Gandheejee bharatiyata mein rache-page Adami hain aur desh ki ekata……..

Description about eBook : The twentieth century idiom was that India lives in villages and the settlers in the villages knew this India well. This India also saw his reflection in the loincloth Gandhi and his creative program raised hopes of change in him. He believed that Gandhiji was a man made in Indianness and the unity of the country …….

“दूसरों की पुष्टि पर निर्भर करने की तुलना में स्वयं को जानने तथा स्वीकार करने- अपनी शक्तियों तथा अपनी सीमाओं को जान लेने से वास्तविक विश्वास की उत्पत्ति होती है।” ‐ जूडिथ एम. बार्डविक
“Real confidence comes from knowing and accepting yourself – your strengths and your limitations – in contrast to depending on affirmation from others.” ‐ Judith M. Bardwick

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment