हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

भारतीय सामाजिक संस्थाएं / Bharatiya Samajik Sansthaen

भारतीय सामाजिक संस्थाएं : डी० डी० शर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Bharatiya Samajik Sansthaen : by D. D. Sharma Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name भारतीय सामाजिक संस्थाएं / Bharatiya Samajik Sansthaen
Author
Category,
Language
Pages 426
Quality Good
Size 10 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : प्रस्तुत पुस्तक में भारतीय सामाजिक संस्थाओ पर समाजशास्त्रीय दृष्टिकोण से विचार किया गया है | ये संस्थाएँ भारतीय जन जीवन को सदियों से प्रभावित करती रही है और आज भी कर रही है | इसका कारण यह है कि ये मानव की मौलिक आवश्यकताओ की पूर्ति के प्रमुख साधन है | ये संस्थाएं भारतीय विद्विनो के मतत चिन्तन का परिणाम है……

Pustak Ka Vivaran : Prastut pustak mein bharatiy samajik sansthao par samajashastriy drshtikon se vichar kiya gaya hai. Ye sansthaen bharatiy jan jeevan ko sadiyon se prabhavit karti rahi hai aur aaj bhi kar rahi hai. Iska karan yah hai ki ye manav ki maulik aavashyaktao ki purti ke pramukh sadhan hai. Ye sansthaen bharatiy vidvino ke matat chintan ka parinaam hai…………
Description about eBook : In the book presented, Indian social institutions have been considered on a sociological basis. These institutions have been influencing Indian masses for centuries and are still doing it today. The reason for this is that it is the main means of fulfilling the basic needs of human beings. These institutions are the result of the ideology of Indian Vidhino…………
“समस्त संसार के लिए हो सकता है कि आप केवल एक इंसान हों लेकिन संभव है कि किसी एक इंसान के लिए आप समस्त संसार हों।” जोसेफीन बिलिंग्स
“To the world you may be just one person but to one person you may be the world.” Josephine Billings

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment