भारतीय स्वतंत्रता संग्राम और मौलाना मुहम्मद अली जौहर : डॉ. ब्रजवासी लाल अग्रवाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Bharatiya Svatantrata Sangram Aur Maulana Mohammad Ali Jauhar : by Dr. Brajwasi Lal Agrawal Hindi PDF Book – History (Itihas)

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम और मौलाना मुहम्मद अली जौहर : डॉ. ब्रजवासी लाल अग्रवाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - इतिहास | Bharatiya Svatantrata Sangram Aur Maulana Mohammad Ali Jauhar : by Dr. Brajwasi Lal Agrawal Hindi PDF Book - History (Itihas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name भारतीय स्वतंत्रता संग्राम और मौलाना मुहम्मद अली जौहर / Bharatiya Svatantrata Sangram Aur Maulana Mohammad Ali Jauhar
Author
Category, ,
Language
Pages 246
Quality Good
Size 43 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मौलाना साहब भारत को ब्रिटेन के समान ही स्वतन्त्र देखना चाहते थे। एक शुद्ध मानवीय दृष्टिकोण से वह भारत में हिन्द या मुस्लिम राज्य नही, स्वराज्य चाहते थे। स्वतन्त्रता के लिए परमावश्यक तत्व एकता के लिए वह ईश्वर से प्रार्थनाएं किया करते थे | वह सत्य और अपने निर्णय पर अटल रहने वाले व्यक्ति थे तथा पूर्ण स्वतन्त्रता एवं स्वशासन के समर्थक थे। अपनी जन्मभूमि, अपना देश उनको स्वर्ग से भी प्रिय था……..

Pustak Ka Vivaran : Maulana Sahab bharat ko britain ke saman hee svatantra dekhana chahate the. Ek Shuddh Manveey drshtikon se vah bharat mein hindu ya muslim Rajy nahee, svarajy chahate the. Svatantrata ke liye Paramavashyak tatv ekata ke liye vah eeshvar se prarthanayen kiya karate the . Vah saty aur apane Nirnay par atal rahane vale vyakti the tatha poorn svatantrata evan svashasan ke samarthak the. apanee janmabhoomi, apana desh unako svarg se bhee priy tha……..

Description about eBook : Maulana Saheb wanted to see India as independent as Britain. From a purely human perspective, he wanted Swarajya, not a Hindu or Muslim state in India. He used to pray to God for unity, the essential element for freedom. He was a man of truth and firm on his decision and was an advocate of complete freedom and self-government. He was loved by his native land, his country too ……….

“यदि आप बार-बार शिकायत नहीं करते हैं तो आप किसी भी कठिनाई को दूर कर सकते हैं।” ‐ बर्नार्ड एम. बारूच
“You can overcome anything if you don’t bellyache.” ‐ Bernard M. Baruch

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment