भीगी हुई रेत : चित्रा मुदगल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Bheegi Huyi Ret : by Chitra Mudgal Hindi PDF Book – Story (Kahani)

भीगी हुई रेत : चित्रा मुदगल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Bheegi Huyi Ret : by Chitra Mudgal Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name भीगी हुई रेत / Bheegi Huyi Ret
Author
Category, , , ,
Language
Pages 190
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

भीगी हुई रेत पुस्तक का कुछ अंश :रिटायर होने का दिन भी आ गया। सारा सामान समेट दोनों घर की ओर लौट चले । अपने छोड़े हुए कस्बे के स्टेशन पर उतर चंपा भौजी को बडा आश्चर्य हुआ | अजीब सा नया पत्र । या कहे तो अजनबीपन । तांगा सडवें गलियों को जब पार करने लगा, तो उन्हें महसूस हुआ कि वह किसी दूसरे नगर गयी है। सडक बाजार रास्ते सब नई …….

 

Bheegi Huyi Ret PDF Pustak Ka Kuch Ansh : Retirement hone ka din bhi aa gayi. Sara saman samet donon ghar ki or laut chale . Apane chhode huye kasbe ke steshan par utar champa bhauji ko bada Aashchary huya . Ajeeb sa naya patra . Ya kahe to Ajnabipan . Tanga sadaven Galiyon ko jab par karane laga, to unhen Mahsus huya ki vah kisi doosare Nagar gayi hai. Sadak, bazar, Raste sab nayi ……..
Short Passage of Bheegi Huyi Ret PDF Book : The day of retirement has also arrived. | All the belongings were returned to both the houses. Champa Bhauji was surprised to get down at his abandoned town station. Strange new letter. Or if I say, stranger. When Tanga started crossing the seventh streets, she realized that she had gone to another city. Roads, markets, roads all new ………
“साहस और दृढ़ निश्चय जादुई तावीज़ हैं जिनके आगे कठिनाईयां दूर हो जाती हैं और बाधाएं उड़न-छू हो जाती है।” ‐ जॉन क्विंसी एडम्स
“Courage and perseverance have a magical talisman, before which difficulties disappear and obstacles vanish into air.” ‐ John Quincy Adams

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment