भिखारिणी : विशम्भरनाथ शर्मा द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Bhikharini by Vishambharnath Sharma Free Hindi PDF Book

भिखारिणी : विशम्भरनाथ शर्मा द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Bhikharini by Vishambharnath Sharma Free Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name भिखारिणी / Bhikharini
Author
Category,
Language
Pages 223
Quality Good
Size 29 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : बाबू साहब कुछ क्षणों तक तो सोचते रहे । उन्होंने देखा कि लड़की के शरीर पर यौवन के चिह्न प्रस्फुटित होने लगे हैं। उन्होंने सोचा–सत्य ही इसे वस्त्र की आवश्यकता है। जवान कन्या का ऐसाः वस्त्र पहने रहना, जिसमें से उसका अंग दिखाई पड़े, अनुचित है । यह सोचकर वह ‘चुपचाप भीतर गए और अपने संदूक से एक धली हुई नई धोती निकाल कर ले आये………

Pustak Ka Vivaran : Babi sahab kuchh kshanon tak to sochate rahe. Unhonne dekha ki ladki ke shareer par yauvan ke chihn prasphutit hone lage hain. Unhonne socha–saty hi ise vastra ki Aavashyakata hai. Javan kanya ka aisah vastra pahane rahana, jisamen se uska ang dikhayi pade, anuchit hai . Yah sochakar vah chupachap bheetar gaye aur apne sandook se ek dhali huyi nayi dhoti nikal kar le aaye………

Description about eBook : Babu Saheb kept thinking for a few moments. He saw that the signs of puberty began to erupt on the girl’s body. He thought–the truth is it needs clothes. It is inappropriate for a young girl to wear such clothes, from which her part is visible. Thinking this, he ‘quietly went inside and took out a new washed dhoti from his chest………

“प्रकृति को गहराई से देखें, और आप हर चीज़ को बेहतर समझ पाएंगे।” ‐ अल्बर्ट आइंस्टीन
“Look deep into nature, and then you will understand everything better.” ‐ Albert Einstein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment