बिगाड़ का डर और ईमान की बात : प्रफुल्ल कोलख्यान द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Bigad Ka Dar Aur Iman Ki Bat : by Prafull Kolkhyan Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameबिगाड़ का डर और ईमान की बात / Bigad Ka Dar Aur Iman Ki Bat
Author
Category, , , ,
Language
Pages 3
Quality Good
Size 387 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : किसी भी समाज-व्यवस्था के चरित्र और स्वास्थ्य के संकेत उसकी न्याय-प्रणाली की प्रभावशीलता से भी भासित होते हैं। ऐसी न्याय-प्रणाली सिर्फ वैधानिक न्याय से सीमित न हो कर विवेक नि:सृत परम-सामाजिक-शुभ की तलाश से भी जुड़ी होती है। “पंच परमेश्वर’ कहानी में बूढ़ी खाला को इसी न्याय की तलाश थी……….

Pustak Ka Vivaran : Kisi bhi Samaj-vyavastha ke charitr aur svasthy ke sanket uski nyay-pranali ki prabhavsheelata se bhi bhasit hote hain. Aise Nyay-pranali sirph vaidhanik nyay se seemit na ho kar vivek ni:srt param-samajik-shubh ki talash se bhi judi hoti hai. “Panch Parameshvar kahani mein boodhi khala ko isi nyay ki talash thi……….

Description about eBook : The character and health of any social system are also influenced by the effectiveness of its judicial system. Such a system of justice is not limited to just legal justice, but is also associated with the search for the ultimate social-good derived from conscience. In the story ‘Panch Parmeshwar’, the old Khala was looking for this justice……

“कुछ कार्यान्वित करने वाला बिना हस्ती का व्यक्ति बने रहना अच्छा है ऐसे किसी हस्ती वाले व्यक्ति से जो कुछ भी कार्यान्वित नहीं करता।” – ए. पंडित
“It is better to be a nobody who accomplishes something than a somebody who accomplishes nothing.” – A. Pundit

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment