बृहत्तन्त्रसार भाग 2 : हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक – तंत्र मंत्र | Brihattantrasaar Part 2 : Hindi PDF Book – Tantra Mantra

बृहत्तन्त्रसार : भाग 2 हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक – तंत्र मंत्र | Brihattantrasaar Part 2 Hindi PDF Book – Tantra Mantra
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name बृहत्तन्त्रसार भाग 2 / Brihattantrasaar Part 2
Category, ,
Language
Pages 584
Quality Good
Size 29 MB
Download Status Not Available
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|

पुस्तक का विवरण : प्रथम भाग की भूमिका मे आप तंत्र एवं आगम की परिभाषा से परिचित हो चुके हैं, जिसके अनुसार आपको विदित हो गया है की तंत्र एक स्वतंत्र शास्त्र है, जिसमे पूजा और आचारपद्धति देते हुए इच्छित कार्यों को वश मे करने का मार्ग दिखलाया जाता है। अब यह जानना शेष है की कलियुग मे तंत्रशास्त्रों के अनुसार की जाने वाली साधना……….

Pustak Ka Vivaran : Pratham bhaag ki bhoomika me aap tantra evan Agam ki Paribhaasha se parichit ho chuke hain, Jisake anusaar Apako vidit ho gaya hai kee tantra ek svatantr shaastra hai, Jisame pooja aur Acharapaddhati dete hue ichchhit kaaryon ko vash me karane ka maarg dikhalaaya jaata hai. ab yah jaanana shesh hai kee kaliyug me tantrashaastron ke anusaar kee jaane vaalee saadhana…………

Description about eBook : In the role of the first part, you have become familiar with the definition of mechanism and agum, according to which you have been informed that the system is an independent science, in which the way of performing the worship and theology is given the way to subjugate the desired works. Now it is left to know that in the Kalyuga……………..

“हमारे लक्ष्य निर्धारित करते हैं कि हम क्या बनने जा रहे हैं।” ‐ जूलियस इरविंग, बास्केटबाल सितारा
“Goals determine what you are going to be.” ‐ Julius Erving, Basketball Star

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment